चंबा-भरमौर एनएच पर 24 घंटे बाद दौड़े वाहन #news4
June 11th, 2021 | Post by :- | 161 Views

चन्हौता : जनजातीय क्षेत्र भरमौर में वीरवार शाम को हुई जोरदार बारिश व बादल फटने की घटनाओं के कारण जगह-जगह हुए भूस्खलन की वजह से वीरवार शाम करीब पांच बजे बंद हुआ चंबा-भरमौर एनएन शुक्रवार शाम पांच बजे बहाल हो पाया। मार्ग पर गैहरा स्थित बत्ती दी हट्टी के पास हुए भारी भूस्खलन से सड़क का पूरी तरह से नामोनिशान मिट गया था, जिससे गंतव्य सहित जरूरी कार्य के लिए निकले वाले लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। मार्ग बंद होने वजह से शुक्रवार को उपमंडल भरमौर व होली में दूध, ब्रेड, सब्जी सहित अन्य जरूरी वस्तुओं की सप्लाई भी नहीं पहुंच पाई। प्रोजेक्ट के साथ क्षेत्र के लिए विभिन्न तरह के कंस्ट्रक्शन सहित अन्य तरह के सामान को ले जा रही गाड़ियां 20 से 22 घंटे तक मार्ग में ही फंसी रही, जिससे चालकों को भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। हालांकि भूस्खलन के तुरंत बाद विभाग ने मार्ग बहाली का कार्य शुरू कर दिया था, लेकिन कई स्थानों पर भूस्खलन का खतरा कार्य में बाधा बना। बावजूद इसके विभाग ने शुक्रवार शाम करीब चार बजे मार्ग को बड़े वाहनों के लिए खोल दिया। उधर, एनएच चंबा के अधिशाषी अभियंता संजीव शर्मा का कहना है कि भूस्खलन से कई स्थानों पर बंद हुए मार्ग को शुक्रवार पांच बजे तक बड़े वाहनों के लिए खोल दिया गया है। मार्ग बहाली के दौरान भूस्खलन का खतरा कार्य में बाधा बना।

गरोला में घर में घुसा कीचड़ व पत्थर

संवाद सहयोगी, चन्हौता : जनजातीय क्षेत्र भरमौर में वीरवार शाम को हुई भारी बारिश ने गरोला क्षेत्र में खूब तबाही मचाई है। गरोला के ऊपरी क्षेत्र में बादल फटने से नाला बन कर बारिश का पानी कीचड़ व पत्थरों के साथ खिड़की से गरोला निवासी तिलक राज के घर में घुस गया, जिससे घर के अंदर रखा खाने पीने सहित दूसरा सामान पूरी तरह से बर्बाद हो गया है। घर में घुसे पानी को देख परिवार के सदस्यों ने घर से भाग कर अपनी जान बचाई। पानी के तेज बहाव से घर के सभी कमरे कीचड़ व पत्थर से भर गए हैं इतना ही नहीं घर के अंदर रखा सभी तरह का सामान खराब हो गया, जबकि कुछ पानी के साथ बह गया है। सूचना मिलने के बाद संबंधित क्षेत्र के पटवारी विजेंद्र सिंह ने मौके पर पहुंच कर बारिश से हुई क्षति का जायजा लिया और रिपोर्ट बनाकर भेज दी है। रिपोर्ट के आधार पर प्रभावित व्यक्ति को नुकसान का मुआवजा प्रदान किया जाएगा। वहीं बीडीसी सदस्य पवन कुमार शर्मा ने प्रभावित परिवार को अपनी ओर से एक हजार रुपये की राहत राशि प्रदान की है। इसके अलावा क्षेत्र में अन्य घरों को भी काफी नुकसान हुआ है। बारिश से खेतों को भी काफी नुकसान हुआ है। पानी के बहाव से कई खेत पूरी तरह से खड्ड बन गए हैं, जबकि कई स्थानों पर खेतों में बीजी फसल भी तबाह हो गई है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।