मलेरिया पर नियन्त्रण पाने के लिए मच्छरों को पनपने न दें स्टोर किए गए पानी को ढक कर रखें, साफ-सफाई का रखें ध्यान … #news4
June 11th, 2021 | Post by :- | 379 Views

बिलासपुर 11 जून – मुख्य चिकित्सा अधिकारी बिलासपुर डाॅ0 प्रकाश दरोच ने जानकारी देते हुए बताया कि बरसात के मौसम में मलेरिया रोग होने की सम्भावना अधिक होती है।
उन्होंने बताया कि कोई भी बुखार मलेरिया हो सकता है। किसी भी सरकारी अस्पताल, स्वास्थ्य उपकेन्द्र या स्वास्थ्य कार्यकर्ता के दौरे पर जांच के लिए रक्त पटिका की सूक्ष्म दर्शी द्वारा जांच पर मलेरिया की पुष्टि होने पर मूल उपचार मूुफ्त दिया जाता है। उन्होंने बताया कि मलेरिया के लिए खून की जांच व उपचार निःशुल्क किए जाते हैं। उन्होंने बताया कि चिकित्सक की सलाह के बगैर कोई दवा न लें।
उन्होंने बताया कि मलेरिया की तीन अवस्थाएं होती है। जिसमें शीत वाली अवस्था में तेज सर्दी, शरीर में कंपकंपी, सिर मे दर्द, खूब कपड़े ओढ़ना तथा गर्मी वाली अवस्था में तेज बुखार, ओढ़े व पहने हुए कपड़े उतार फैंकना और पसीने वाली अवस्था में अधिक पसीने के साथ बुखार उतरना व कमजोरी महसूस होना है।
उन्होंने बताया कि मलेरिया पर नियन्त्रण पाने के लिए मच्छरों को पनपने न दें। उन्होंने बताया कि मच्छर हमेशा खडे पानी में अण्डे देता है इस लिए खुले तौर पर कभी भी पानी खडा न होने दें, जहां कहीं पानी स्टोर किया जाए उसे भली प्रकार ढक कर रखें ताकि मच्छर प्रवेश न कर सके।
घरों के आस-पास गढढों को भर दें और नालियों की सफाई बनाए रखें ताकि पानी का ठहराव सम्भव न हो। सप्ताह में एक बार सूखा दिवस मनाएं, कूलरों, गमलों, और डिब्बों का पानी निकाल कर इन्हें सूखा दंे। सोते समय कीटनाशक से उपचारित मच्छरदानी का प्रयोग करें। घर के दरवाजों और खिडकियों में जालीदार पल्ले लगवाएं। शरीर के नंगे भागों जैसे हाथ, पैर, मंुह पर मच्छर भगाने वाली क्रीम का प्रयोग करें। पूरे शरीर को ढकने वाले कपडे पहने। गर्भवती महिलाओं और बच्चों को विशेषकर मच्छरों से बचाना चाहिए।
उन्होंने बताया कि छोटे गढों को मिट्टी से भर कर, बड़े गढों में खड़े पानी में मिट्टी तेल या प्रयोग किए गए मूवआयल की बूंदे डाल कर या मच्छर द्वारा अण्डे देने के स्थानों पर लार्वा भक्षक गंम्बूजिया मच्छली डाल कर, मच्छर के लार्वा पैदा होने पर रोक लगाई जा सकती है।
उन्होंने बताया कि जब तक मलेरिया रोगी का मूल उपचार न किया जाए उसका बुखार उतर जाने पर भी मलेरिया परजीवी शरीर में समाए रहते हैं। शरीर धीरे-धीरे कमजोर होता जाता है। दूसरी ओर ऐसा रोगी अन्य स्वस्थ लोगों तक मलेरिया संक्रमण फैला सकता है। उन्होंने कहा कि बुखार आने पर रक्त की जांच मलेरिया के लिए अवश्य करवाएं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।