कोरोना की दूसरी लहर:प्रदेश में रिकॉर्ड 3007 पॉजिटिव मिले, सबसे ज्यादा जयपुर में 551 केस आए; 16 लोगों की मौत ..
November 21st, 2020 | Post by :- | 125 Views

त्यौहार सीजन निकलने के बाद से बढ़ते कोरोना के केस अब सरकार और आमजन दोनों के लिए चिंता का विषय बनते जा रहे है। शनिवार को पूरे प्रदेश में सामने आए 3007 केसों ने नया रिकॉर्ड बनाया है। इसमें सबसे ज्यादा राजधानी जयपुर में 551 मरीज है, जो जयपुर के अब तक के समय में सर्वाधिक एक दिन में मिले केस है।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग से जारी रिपोर्ट पर नजर डाले तो आज के आंकड़े बेहद ही डराने वाले है। प्रदेश के 33 में से 8 जिले ऐसे है जहां 100 से ऊपर मरीज सामने आए है। वहीं आज डेथ केस की बात करें तो पूरे प्रदेश में 16 जनों की मौत कोरोना से हुई है। इसमें सबसे अधिक मौतों का आंकड़ा 4 जयपुर का है। विशेषज्ञों की माने तो सर्दी में संक्रमण के तेजी से फैलने की आशंका है, ऐसे में अब पहले से ज्यादा सावधानी बरतनी होगी, तभी इस बीमारी से बचा जा सकता है।

राजधानी जयपुर की बात करें तो आज यहां सर्वाधिक केस झोटवाड़ा से 35 आए है। इसके अलावा मानसरोवर से 31, सोडाला से 25, महेश नगर से 28, टोंक फाटक से 20 और टोंक रोड क्षेत्र से 19 केस मिले है। इनके अलावा जवाहर नगर, जगतपुरा, गोपालपुरा, दुर्गापुरा, बनीपार्क, अजमेर रोड, वैशाली नगर, प्रताप नगर, सांगानेर, शास्त्री नगर सहित अन्य ऐसे स्थान है जहां 10 से ज्यादा केस मिले है।

भरतपुर की स्थिति खराब, अब तक 100 की मौत
कोरोना से प्रदेश में भले ही डेथ रेशो कम हो, लेकिन इस मामले में भरतपुर जिले की स्थिति बहुत खराब है। यहां अब तक कुल 6997 मरीज आए है, जिसमें से 100 की मौत हो गई। आज भरतपुर प्रदेश का छठां ऐसा जिला बन गया है, जहां कोरोना से होने वाली मौतों की संख्या 100 से ऊपर पहुंच गई है।

इन जिलों की स्थिति भी चिंताजनक
आज जारी रिपोर्ट को देखे तो सबसे ज्यादा खराब स्थिति जयपुर के बाद दूसरे नंबर पर जोधपुर में रही, जहां केसों की संख्या 444 रही। इसके अलावा बीकानेर में 215, अजमेर में 210 और कोटा में 203 मरीज मिले है। वहीं पूरे देश में जिस भीलवाड़ा मॉडल की बात कहकर वाही-वाही लूटी जा रही थी वहां आज 128 केस सामने आए है। वहीं गंगानगर में 115, अलवर में 139, सीकर में 95 और नागौर में 94 केस मिले है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।