जिस बांध का पीएम मोदी ने किया था उद्घाटन, तालिबान ने उसपर दागे मोर्टार … #news4
July 17th, 2021 | Post by :- | 232 Views

अफगानिस्तान में हालात बेहद खराब होते जा रहे हैं। हेरात प्रांत के चेश्त जिले में बिजली और सिंचाई के प्रमुख स्रोत सलमा बांध पर तालिबान आतंकवादियों ने दर्जनों मोर्टार दागे हैं। इस बांध को अफगान-भारत मित्रता के प्रतीक के तौर पर जाना जाता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जून 2016 में पश्चिमी अफगानिस्तान के हेरात प्रांत के चिस्त-ए-शरीफ में अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी के साथ संयुक्त रूप से अफगानिस्तान-भारत मैत्री बांध (सलमा बांध) का उद्घाटन किया था।

अफगान राष्ट्रीय जल प्राधिकरण ने कहा है कि एजेंसी ने तालिबान के निरंतर हमलों के विनाशकारी नतीजों की चेतावनी दी थी। अफगानिस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, अगर आतंकवादी रॉकेट चलाना जारी रखते हैं तो सलमा बांध नष्ट हो जाएगा। उन्होंने कहा कि कुछ रॉकेट बांध के पास गिरे थे। अफगानिस्तान टाइम्स ने कहा कि अगर सलमा बांध क्षतिग्रस्त हो जाता है तो बड़ी संख्या में अफगान नागरिकों को नुकसान होगा क्योंकि हेरात प्रांत के आठ जिलों में कई लोगों का जीवन और आजीविका सलमा बांध के जलाशय पर निर्भर है।

अफगानिस्तान टाइम्स ने तालिबान से सलमा बांध पर अपने रॉकेट हमलों को रोकने का आह्वान किया है, जो एक राष्ट्रीय संपत्ति है और युद्ध में क्षतिग्रस्त नहीं होनी चाहिए। एजेंसी ने बांध पर किसी भी हमले की सुरक्षा और रोकथाम के लिए कहा, अगर बांध क्षतिग्रस्त हो जाता है, तो चेश्त और कहसन जिलों के निवासी बुरी तरह प्रभावित होंगे। तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने हालांकि किसी भी संलिप्तता से इनकार करते हुए कहा, हमने सलमा बांध पर बिल्कुल भी गोली नहीं चलाई। उन्होंने यह भी दावा किया कि कमाल खान बांध की सुरक्षा अब तालिबान के हाथ में है। सलमा बांध चेश्त जिले के पास हरिरोड नदी की ऊपरी पहुंच में स्थित है। यह 107 मीटर ऊंचा और 550 मीटर लंबा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।