ठियोग पुलिस की कार्रवाई पर आरोपी की बेटियों ने उठाये सवाल … #news4
June 17th, 2021 | Post by :- | 392 Views

ठियोग पुलिस की कार्रवाई पर आरोपी की बेटियों ने उठाये सवाल
नेपाली की हत्या नही मौत हुई है, पुलिस जबरन फसा रही

ठियोग में नेपाली मूल के व्यक्ति की हत्या मामले में गिरफ्तार किए गए स्थानीय कारोबारी की बेटियों ने ठियोग पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाए है । कारोबारी की बेटियों निशा और सरिता ने कहा कि नेपाली की हत्या नही उसकी प्राकृतिक मौत हुई है और पुलिस जबरन हत्या का मामला बना रही है । शिमला में पत्रकार वार्ता में निशा और सरिता ने पुलिस की कार्रवाई पर कई आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि नेपाली
व्यक्ति की हत्या का आरोप बेबुनियाद है। ये व्यक्ति 25 दिन से लाचार हालत में रह रहा था और उसकी मानसिक हालत भी सही नहीं थी। उनके पिता श्याम सिंह ने मानवीयता के नाते इस व्यक्ति को अपने पास शरण दी थी। उसे दो वक्त का भोजन दिया जाता था। बीमार पडऩे पर उसे मेडिकल स्टोर से दवाई भी दिलाई गई। विगत माह 10 से 12 मई के बीच अचानक उसकी मृत्यु हो गई। इस मामले में ठियोग पुलिस ने करीब एक महिने बाद उनके पिता को गिरफ्तार कर उनके विरुद्ध
मर्डर का केस दर्ज किया है। पुलिस किसी के दवाब में आकर उनके पिता को निशाना बना रही है। मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि नेपाली मूल के व्यक्ति के परिवार के बारे में कोई जानकारी न होने के कारण उनके पिता ने रीति.रिवाज के अनुसार उसका अंतिम संस्कार कर दिया था। पुलिस ने अब एक माह बाद ये मामला खोला और उनके पिता को गिरफ्तार कर लिया। हत्या का मामला बना कर उन्हें प्रताडि़त किया जा रहा है। आरोपी की बेटियों ने आरोप लगाया कि पुलिस किसी के दवाब में ये कार्रवाई कर रही है। उनके पिता
बेकसूर हैं और वे इंसानियत के नाते इस व्यक्ति की मदद कर रहे थे। नेपाली मूल के व्यक्ति की मौत होने पर उसका दाह संस्कार किया। अगर उसे मारना ही
होता तो वे उसका दाह संस्कार क्यों करते। बेटियों ने कहा कि वे इस मामले में इंसाफ के लिए शिमला के एसपी और डीजीपी से भी गुहार लगाएंगे। पुलिस
अगर फिर भी इस मामले में निषपक्ष जांच नही करेगी तो सूबे के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से भी न्याय की गुहार लगाई जाएगी

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।