महज 23 की उम्र पार्षद बनी श्रुति, राजनीति में की एंट्री #news4
January 12th, 2021 | Post by :- | 120 Views

नाहन : हिमाचल प्रदेश में महज 23 साल की उम्र में श्रुति चौहान पार्षद बन गई है। शहरी निकाय के चुनाव में श्रुति चौहान ने नाहन नगर परिषद के वार्ड नंबर-4 से 327 मत लेकर भाजपा समर्थित प्रत्याशी तुलसा कश्यप को 28 मतों से पटखनी देकर यह मुकाम हासिल किया है। दरअसल 25 अगस्त 1997 को नाहन निवासी ललित कुमार व मीना देवी के घर में जन्मी श्रुति ने कांग्रेस समर्थित प्रत्याशी के तौर पर राजनीति में एंट्री की है। वह पहली बार राजनीति में उतरीं और जीत हासिल की।

हालांकि स्पष्ट तौर पर तो नहीं कहा जा सकता, लेकिन नगर निकाय चुनाव में श्रुति प्रदेश में सबसे कम उम्र की पार्षद हो सकती हैं। श्रुति अभी स्नातक अंतिम वर्ष की पढ़ाई कर रही हैं। हालांकि कॉलेज में वह एनएसयूआई की समर्थक जरूर रहीं, लेकिन उन्होंने एनएसयूआई में कभी भी सक्रिय कार्यकर्ता के तौर पर हिस्सा नहीं लिया। नाहन में मीडिया से बातचीत में श्रुति ने बताया कि वह अभी ग्रेजुएशन कर रही हैं और अंतिम वर्ष के नतीजों का इंतजार है। उन्होंने कहा कि वह राजनीति में आने का शौक रखती थीं और आज इसी का परिणाम है कि वह विजयी हुई हैं। श्रुति ने मतदाताओं के साथ-साथ कांग्रेस का भी उन पर विश्वास जताने पर आभार भी व्यक्त किया।

श्रुति ने कहा कि परिवार का भी उन्हें इस कार्य के साथ-साथ हमेशा से सहयोग मिलता आया है। वह वार्ड के विकास के लिए बहुत कुछ करना चाहती है। लिहाजा जनता ने जिस तरह से अभी सहयोग किया है, आगे भी मिलता रहे। युवाओं को संदेश देते हुए श्रुति ने कहा कि युवा बेहद कुछ कर सकते हैं। लिहाजा सपनों को पूरा करने के लिए मेहनत करें। श्रुति की जीत पर उनका परिवार भी बेहद खुश है और श्रुति के उज्जवल भविष्य की कामना कर रहा है। श्रुति की छोटी बहन अवंतिका ने कहा कि अपनी बहन की जीत पर वह बेहद खुश है और उनकी बहन को जीताने के लिए वह वार्ड के सभी लोगों का दिल की गहराइयों से आभार व्यक्त करते हैं। वहीं, श्रुति की माता मीना देवी ने कहा कि सभी के सहयोग से उनकी बेटी ने विजयश्री हासिल की है। उम्मीद है कि बेटी लोगों की सेवा में बेहतर कार्य करेगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।