शिवहर:- आपराधिक गिरोह के बीच वर्चस्व एवं प्रतिद्वंदिता को लेकर की गई श्री नारायण सिंह की हत्या
October 27th, 2020 | Post by :- | 125 Views

हत्यारा 21 से 22 दिनों तक श्री नारायण सिंह का पीछा कर रहे थे,

शिवहर पुलिस ने घटना में शामिल अपराध कर्मी को उद्भेभेदन करते हुए गिरफ्तार कर लिया है

तिहाड़ जेल में बंद संतोष झा के गिरोह का सदस्य साजिशकर्ता विकास झा उर्फ कालिया को चिन्हित किया गया है

शिवहर:-जिले के चर्चित पूर्व मुखिया वह पूर्व जिला परिषद सदस्य जनता दल राष्ट्रवादी पार्टी के 22 विधानसभा प्रत्याशी श्री नारायण सिंह के हत्या कांड का उद्भभेदन करते हुए अपराध कर्मियों को गिरफ्तार कर लिया है।

इस बाबत पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार ने प्रेस वार्ता कर बताया है कि पूरनहिया थाना अंतर्गत हथिसार गांव में श्री नारायण सिंह जनता दल राष्ट्रवादी पार्टी के प्रत्याशी को गोली मारकर हत्या कर देने की घटित घटना का उद्भेभेदन कर लिया गया है तथा अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया गया है उन्होंने बताया है कि आपराधिक गिरोह के बीच वर्चस्व एवं प्रतिबद्धता को लेकर की गई है हत्या।

पुलिस अधीक्षक ने प्रेस वार्ता कर बताया है कि अपराध कर्मियों के द्वारा गोली मारकर श्री नारायण सिंह को जख्मी कर दिया गया था। इस गोलीबारी के क्रम में हथिसार के संतोष कुमार पिता राजेंद्र महतो एवं आलोक रंजन पिता श्याम महतो तथा नया गांव के अभय सिंह पिता स्वर्गीय रामाज्ञा सिंह जख्मी हो गए थे। गोली लगने के कारण श्री नारायण सिंह एवं संतोष की मृत्यु इलाज के क्रम में सीतामढ़ी में हो गई थी अन्य जख्मी को इलाज चल रहा है तथा वे खतरे से बाहर है।

प्रेस वार्ता के दौरान पुलिस अधीक्षक ने बताया है कि गोलीबारी के बाद भाग रहे अपराध कर्मियों में से दो व्यक्तियों गौरी शंकर महाराज पिता अरविंद महाराज मानिक चौक थाना रुन्नीसैदपुर जिला सीतामढ़ी तथा नीरज पाठक उर्फ चाइनीज पिता राघो पाठक ऊर्फ घोरी पाठक बथनाहा पीएचसी के पास बथनाहा पूर्वी टोला जिला सीतामढ़ी को स्थानीय लोगों के द्वारा पकड़ लिया गया तथा उनके साथ मारपीट भी किया गया जिससे उक्त अपराधी कर्मी गंभीर रूप से जख्मी हो गए थे जिसमें से गौरी शंकर महाराज की मृत्यु अस्पताल लाने पर हो गई थी।

साथ ही उनके अवैध अग्यानशास्त्र के साथ हिरासत में लेकर विशेष अनुसंधान दल के द्वारा गाया से पूछताछ किया गया है।

पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार ने प्रेस वार्ता के दौरान बताया है कि पारंपरिक एवं वैज्ञानिक पद्धति से अब तक किए गए अनुसंधान से इस हत्या कांड का उद्भेदन हो चुका है इसमें शामिल अपराध कर्मियों को चिन्हित कर लिया गया है अब तक के अनुसंधान से इस घटना के मुख्य साजिशकर्ता के रूप में दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद विकास झा उर्फ कालिया को चिन्हित किया गया है जो संतोष झा गिरोह का सदस्य है तथा संतोष झा के हत्या के बाद इस गिरोह का सरगना बन गया है यह घटना संतोष की हत्या का बदला लेने तथा अपना वर्चस्व स्थापित करने के उद्देश्य से किया गया है।

गिरफ्तार अपराधियों के द्वारा कबूल किया गया है कि विकास झा उर्फ कालिया संतोष झा की हत्या के लिए श्री नारायण सिंह को जिम्मेदार मानता था तथा अपने सागिर्दो को इस हत्याकांड अंजाम देने हेतु अधिकृत किया था ।

ज्ञातव्य हो कि श्री नारायण सिंह का लंबा आपराधिक इतिहास रहा है तथा लगभग 30 गंभीर कांडों में अभियुक्त थे, विकास झा उर्फ कालिया तिहार जेल से मोबाइल से व्हाट्सएप खोल के माध्यम से अपराधिक घटनाओं को अंजाम दे रहा है।

पुलिस अधीक्षक श्री कुमार ने बताया है कि गिरफ्तार किए गए अभियुक्त विस्तार से बताया कि विकास झा उर्फ कालिया तिहाड़ जेल से व्हाट्सएप कॉल कर लगातार निर्देश दे रहा था। गिरफ्तार किए गए अभियुक्त ने स्वीकार किया है कि लगभग ढाई माह पूर्व विकास झा के द्वारा इन लोगों को श्री नारायण सिंह की हत्या करने के निर्देश दिया गया था इन लोगों ने पटना में 21- 22 दिनों तक कार्यालय के दौरान श्री नारायण सिंह की हत्या करने का प्रयास किया गया था लेकिन पुलिस की भारी बंदोबस्त के कारण वे सफल नहीं हो सके।

पुलिस अधीक्षक ने बताया है कि पिछले कुछ दिनों से यह लोग श्री नारायण सिंह के चुनाव प्रचार के दौरान क्षेत्र भ्रमण में इनका पीछा कर रहे थे घटना के दिन गौरी शंकर महाराज।, नीरज पाठक और बाबू साहब झा तीनो एक बाइक पर सवार होकर आए तथा गौरी शंकर महाराज एवं नीरज पाठक श्री नारायण सिंह के साथ चल रहे समर्थकों की भीड़ में शामिल हो गए तथा मौका देखकर श्री नारायण सिंह को बिल्कुल करीब आकर गोली चला दिया जिससे वह गंभीर रूप से जख्मी हो गए तथा उनकी मृत्यु हो गई तथा अन्य लोग भी इस घटनाक्रम में जख्मी हुए तथा हथिसार गांव के निवासी संतोष कुमार जो भीड़ में साथ साथ चल रहे थे उन्हें भी गोली लगी तथा उनके इलाज के दौरान हो गई।

इस घटना में शामिल कुल 3 युवकों के द्वारा घटनास्थल पर अंजाम दिया गया है तथा गिरफ्तार किए गए युवक नीरज पाठक के पास से अवैध अस्त्र बरामद किया गया है इस प्रकार घटना का उद्भेभेदन हो चुका है तथा मामला आपराधिक गिरोह के बीच वर्चस्व प्रतिद्वंद्विता के लेकर कार्य किया गया है तथा मुख्य से देसी पिस्टल जिंदा कारतूस मोबाइल को बरामद किया गया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।