परीक्षित के जज्बे को सलाम, 15 साल की उम्र में फतह कर ली 6110 मीटर ऊंची युनम चोटी #news4
July 20th, 2021 | Post by :- | 96 Views

कुल्लू : जिला लाहौल स्पीति व लद्दाख की सीमा को जोड़ने वाली युनम चोटी पर जिला कुल्लु के वीरेंद्र राणा की अगुवाई में पर्वतारोहियों के 9 सदस्यीय दल ने सफलतापूर्वक चढ़ाई की है। समुद्र तट से 6110 मीटर की ऊंचाई पर स्थित युनम चोटी की यात्रा कठिन ट्रैक में से एक मानी जाती है बाकायदा भारतीय पर्वतारोहण संघ की अनुमति से यह दल 12 जुलाई को मनाली से रवाना हुआ था और 16 जुलाई को प्रात: 10.30 बजे इसने युनम चोटी पर पहुंचकर तिरंगा झंडा फहराया है। इस अभियान में खास बात यह रही कि इस दल में सबसे कम उम्र के पर्वतारोही 15 वर्षीय परीक्षित सूद भी शामिल रहे। जो युनम चोटी को फतह करने वाले प्रथम युवा पर्वतारोही बन गए हैं।

बधाई देने वालों का लगा तांता

सोशल मीडिया पर परीक्षित सूद को बधाई देने वालों का तांता लग गया है। इस युवा पर्वतारोही ने तीर्थन घाटी के साथ-साथ अपने बिड़ला पब्लिक स्कूल कुल्लु का भी नाम रोशन किया है। उपमंडल बंजार की तीर्थन घाटी के पंकि सूद व सोनू सूद के बेटे परीक्षित सूद पढ़ाई के साथ-साथ साहसिक खेलों में भी काफी रूचि रखते हैं। पिता पंकि सूद ने बताया कि परीक्षित सूद इससे पहले भी तीर्थन घाटी विश्व धरोहर ग्रेट हिमालयन नैशनल पार्क में स्थित 5150 मीटर ऊंचाई पर स्थित काया पीक पर 13 साल की उम्र में चढ़ाई कर चुका है। इसके अलावा यह स्कीइंग, पैराग्लाइडिंग, स्विमिंग, रैपलिंग जैसी अन्य साहसिक खेलों में भी भाग लेता रहता है।

कड़े अभ्यास और बुलंद हौसले से कुछ भी कर सकते हैं हासिल : परीक्षित

परीक्षित सूद का कहना है कि कड़े अभ्यास और बुलंद हौसले से कुछ भी हासिल किया जा सकता है। परीक्षित ने बताया कि 6110 मीटर युनम चोटी को फतेह करने से पूर्व तीर्थन घाटी में ट्रैकिंग का पूर्वाभ्यास भी किया था, जिसमें हफ्तों तक रोजाना घर से पैदल 15 किलोग्राम वजन उठाकर देवकंडा की पहाड़ी तक जाकर अप और डाऊन किया। परीक्षित का अगला लक्ष्य 7000 मीटर ऊंचे पर्वत को फतेह करना रहेगा। परीक्षित सूद ने अपने माता-पिता व गुरुजनों का आभार व्यक्त किया है, जिन्होंने उसकी हौसला अफजाई की है और इस अभियान को करने की इजाजत दी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।