Night Curfew: हिमाचल में लग सकता है नाइट कर्फ्यू, फाइव-डे वीक का भी प्रस्ताव ….
November 22nd, 2020 | Post by :- | 199 Views

कोरोना के बीच कैबिनेट में बड़े फैसले ले सकती है सरकार, फाइव-डे वीक का भी प्रस्ताव

हिमाचल में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामलों के बीच सरकार कुछ और बड़े फैसले ले सकती है, क्योंकि लगातार स्थिति बिगड़ रही है और कोरोना से मौत का आंकड़ा भी बढ़ने लगा है। ऐसे में जरूरी है कि इसकी चेन को तोड़ा जाए और उसे लेकर कैबिनेट में चर्चा संभावित है। सूत्रों के अनुसार स्वास्थ्य विभाग की ओर से एक प्रस्ताव इस संबंध में सरकार को गया है, जिसमें बताया गया है कि आगे क्या कदम उठाकर कोरोेना की चेन को तोड़ा जा सकता है। हिमाचल के लिए आगे क्या कदम उठाए जाने जरूरी हैं, इस पर कैबिनेट में चर्चा की जाएगी। बताया जा रहा है कि इसमें प्रदेश में नाइट कर्फ्यू एक दफा फिर से लागू किए जाने की सिफारिश है।
लोगों को रात के समय में थोड़ा पाबंद किया जाए, तो यहां पर स्थिति में थोड़ा नियंत्रण हो सकता है। इसके साथ सभी सरकारी व निजी कार्यालयों में फाइव-डे वीक का भी एक प्रस्ताव है, ताकि शनिवार व रविवार को सब कुछ बंद रहे और लोग खुद ही घरों से न निकलें। इस दौरान बाजार भी बंद रखे जाएंगे। रविवार को त्योहारों के चलते बाजार खुले थे, जिन्हें भी अब बंद किया जा रहा है। इसके साथ खुले में होने वाले आयोजनों पर भी पाबंदी के लिए कहा जा रहा है। इन दिनों देखने में आया है कि शादियों के समारोह में कोरोना के ज्यादा मामले सामने आने लगे हैं। लोग हिदायतों पर गौर नहीं कर रहे हैं, जिसके चलते यहां पर मामलें की संख्या बढ़ रही है।
स्वास्थ्य विभाग ने इस पर स्टडी भी किया है जिसमें शादी समारोह को ज्यादा प्रभावी कोेरोना के लिए माना जा रहा है। सरकार ने स्कूल पहले से बंद रखे हैं, मगर 25 नवंबर तक ही इनको बंद किया गया है। इस पर भी चर्चा की जाएगी कि स्कूलों को आगे कितने दिन और बंद रखा जाए। हालांकि प्रदेश में इस तरह के फैसले लेना सरकार के लिए आसान नहीं है, क्योंकि पहले जब लॉक डाउन था तो हिमाचल सरकार के साथ यहां के आम नागरिकों को बड़ा नुकसान उठाना पड़ा है। इसी तरह से सरकार को करीब 30 हजार करोड़ का नुकसान भी उठाना पड़ा है, वहीं हजारों लोगों की नौकरी इससे चली गई।
चेन तोड़ना बेहद जरूरी
लॉकडाउन से प्रदेश को बहुत बड़ा नुकसान हुआ है। सबसे ज्या पर्यटन को नुकसान हुआ है, जहां हजारों लोग सड़कों पर आ गए। इनको रोजगार अब मुश्किल से मिल पा रहा है। इसी तरह से कई दूसरे वर्ग भी हैं। ऐसे में लॉकडाउन जैसा कदम तो सरकार शायद ही उठाएगी, मगर उसे कुछ कड़े फैसले लेने होंगे, ताकि कोरोना की चेन टूट सके।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।