नवरात्रों में टोकन से होंगे मां नयनादेवी के दर्शन, भजन संध्या पर रहेगी पाबंदी #news4
October 16th, 2020 | Post by :- | 154 Views

प्रसिद्ध शक्तिपीठ श्री नयनादेवी जी में आश्विन नवरात्रों के सफल आयोजन के लिए मंदिर न्यास व जिला प्रशासन ने तैयारियां पूरी कर ली हैं। श्री नयनादेवी मंदिर न्यास आयुक्त एवं डीसी राजेश्वर गोयल ने बचत भवन में आयोजित प्रैसवार्ता में बताया कि श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए मंदिर केवल 2 घंटे रात को 12 से 2 बजे तक ही बंद रहेगा।

ये नियुक्त किए नोडल अधिकारी

डीसी ने कहा कि आश्विन नवरात्रों के दौरान श्रद्धालुओं को सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी तथा कोविड-19 के दिशा-निर्देशों के तहत श्रद्धालुओं को दर्शन करवाए जाएंगे। एसडीएम स्वारघाट को प्रशासनिक नोडल अधिकारी एवं डीएसपी नयनादेवी को पुलिस नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। इसके अतिरिक्त एक चिकित्सक को स्वास्थ्य नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। उन्होंने बताया कि इस बार श्रद्धालुओं को टोकन देकर मंदिर में भेजा जाएगा।

450 जवान किए तैनात

उन्होंने बताया कि आश्विन नवरात्रों के दौरान श्री नयनादेवी जी क्षेत्र को 9 सैक्टरों में विभाजित किया जाएगा जिसमें 5 सैक्टर मैजिस्ट्रेट नियुक्त किए गए हैं। मेले के दौरान कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए 450 जवान तैनात किए गए हैं जिनमें पुलिस के 300 व होमगार्ड के 150 जवान शामिल हैं। यातायात व्यवस्था को बहाल रखने के लिए 3 बैरियर बनाए गए हैं।

ट्रक, ट्रैक्टर व टैम्पो का टोबा से आगे प्रवेश बंद

टोबा के पास पंजाब के साथ लगती सीमा के आगे टै्रक्टर, ट्रक व टैम्पो को नहीं जाने दिया जाएगा। इनमें आने वाले श्रद्धालुओं को बसों या टैक्सियों के माध्यम से भेजा जाएगा। उन्होंने बताया कि घवांडल के आगे बसों को नहीं जाने दिया जाएगा। इस बार आयुर्वैदिक डिस्पैंसरी नयनादेवी, सीएचसी घवांडल, पीएचसी टोबा में स्थायी चिकित्सा सुविधा केंद्र बनाए गए हैं जबकि सैक्टर 4 व 5 में अस्थायी चिकित्सा सैंटर बनाए गए हैं।

यहां होगी श्रद्धालुओं की स्क्रीनिंग

उन्होंने बताया कि पीएचसी टोबा, सीएचसी घवांडल, रोप-वे, मातृ शरण व मंदिर के मुख्य प्रवेश द्वार के पास श्रद्धालुओं की स्क्रीनिंग की जाएगी। सरकार के निर्देशानुसार सैनिटाइजेशन का काम प्राथमिकता के आधार पर सुनिश्चित करवाया जाएगा। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा मातृ आंचल में आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है तथा सीएचसी घवांडल में पर्याप्त दवाइयों व ऑक्सीजन की व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि मातृ सदन व नया बस स्टैंड में होल्डिंग एरिया बनाए गए हैं। मेले के दौरान नयनादेवी में 3 एम्बुलैंस तैनात की गई हैं।

हलवा व नारियल चढ़ाने पर भी प्रतिबंध

मंदिर में इस बार भजन संध्या आयोजित नहीं होगी और न ही हलवा व नारियल चढ़ाया जा सकेगा। मुंडन संस्कार, विवाह-शादियां व हवन नहीं होंगे और न ही लंगर आदि लगेंगे। उन्होंने बताया कि सफाई व्यवस्था को बनाए रखने के लिए 100 सफाई कर्मचारी तैनात किए गए हैं। श्रद्धालु नया बस स्टैंड से पैदल व गाडिय़ों के माध्यम से गुफा तक जा पाएंगे। उन्होंने श्रद्धालुओं से अपील की है कि वे बच्चों, बुजुर्गों व गंभीर बीमारी से ग्रसित लोगों तथा गर्भवती महिलाओं को साथ न लाएं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।