स्ट्रेच मार्क्स से छुटकारा पाने के प्राकृतिक घरेलू नुस्ख़े #news4
August 22nd, 2021 | Post by :- | 356 Views
  1. स्ट्रेच मार्क्स के कारण
  2. स्ट्रेच मार्क्स के प्रकार
  3. स्ट्रेच मार्क्स से छुटकारा पाने के घरेलू नुस्ख़े
  4. स्ट्रेच मार्क्स से छुटकारा पाने की डायट
  5. स्ट्रेच मार्क्स सवाल-जवाब

 

महिलाओं और पुरुषों दोनों को परेशान करनेवाले स्ट्रेच मार्क्स बेहद ज़िद्दी होते हैं. वे होते तो हमारे शरीर पर, सीधे हमारे आत्मविश्वास पर हमला करते हैं. उनके आने का चाहे जो भी कारण हो, जैसे-प्रेग्नेंसी या अचानक वज़न बढ़ना, पर इसके निशान कमर, जांघों, पीठ के निचले हिस्से, पेट के निचले हिस्से, नितंबों, बांहों और महिलाओं के केसेस में ब्रेस्ट पर भी रह जाते हैं.

 

आमतौर पर स्ट्रेच मार्क्स त्वचा पर समानांतर रेखाओं के बैंड की तरह होते हैं. इन रेखाओं का रंग, टेक्स्चर हमारी त्वचा की ओरिजिनल रंगत से अलग होता है. स्ट्रेच मार्क्स का रंग पर्पल से लेकर ब्राइट पिंक और लाइट ग्रे तक हो सकता है. स्ट्रेच मार्क्स तब आते हैं, जब त्वचा के डर्मल लेयर में अचानक खिंचाव आता है. यही कारण है कि महिलाओं को प्रेग्नेंसी स्ट्रेच मार्क्स का सौगात दे जाती है. त्वचा के डर्मिस में मज़बूत और आपस में जुड़े हुए फ़ाइबर्स होते हैं, जो शरीर की वृद्धि के साथ खिंचाते हैं. जब अचानक वज़न बढ़ जाता है, तब त्वचा में कुछ ज़्यादा ही खिंचाव हो जाता है, जिससे ये फ़ाइबर्स टूट जाते हैं और परिणाम स्ट्रेच मार्क्स के रूप में सामने आता है. जब डर्मिस टूटता है, तब त्वचा के नीचे स्थित ब्लड वेसल्स शुरू-शुरू में इन स्ट्रेच मार्क्स को लाल या पर्पल रंग दे देते हैं. आगे चलकर जब ये ब्लड वेस्लस छोटे होते जाते हैं, तब आपकी त्वचा के नीचे स्थित पेल कलर का फ़ैट दिखना शुरू हो जाता है, जिसके कारण स्ट्रेच मार्क्स का कलर सिल्वरी ग्रे हो जाता है. हालांकि इन स्ट्रेच मार्क्स से छुटकारा पाना टेढ़ी खीर है, पर कुछ प्राकृतिक घरेलू नुस्खों को आज़माकर आप इन्हें हल्का दिखा सकते हैं.

नई दिल्ली की कंसल्टेंट डर्मैटोलॉजिस्ट और डर्मैटोसर्जन डॉ पूजा चोपड़ा कहती हैं,‘‘स्ट्रेच मार्क्स लाल हुई त्वचा का बैंड है, जो आगे चलकर सफ़ेद, स्मूद और शाइनी हो जाती है. प्रेग्नेंसी के दौरान पेट पर और स्तनपान कराने के बाद ब्रेस्ट्स से स्ट्रेच मार्क्स देखे जा सकते हैं. इसके अलावा अचानक वेट या मसल मास गेन करनेवालों (बॉडी बिल्डर्स और वेट लिफ़्टर्स) में भी यह आम है. वे जांघों, नितंबों, घुटनों, कुंहनी के आसपास देखे जा सकते हैं. इसके लिए कुशिंग्स सिंड्रोम जैसे कुछ मेडिकल कंडिशन्स भी ज़िम्मेदार हैं.

क्या हैं स्ट्रेच मार्क्स के कारण

 

  1. प्रेग्नेंसी के दौरान आते हैं स्ट्रेच मार्क्स

ज़्यादार महिलाओं की त्वचा पर प्रेग्नेंसी के दौरान स्ट्रेच मार्क्स दिखते हैं. प्रेग्नेंसी के दौरान महिला के पेट की त्वचा के फ़ाइबर बेहद सॉफ़्ट हो जाते हैं और फैलते हैं, ताकि पेट में बच्चे के लिए जगह बन सके. जैसे-जैसे बेबी का ग्रोथ होना शुरू होता है, त्वचा में आ रहे लगातार खिंचाव के चलते मां के पेट, जांघों और ब्रेस्ट्स पर स्ट्रेच मार्क्स दिखने शुरू हो जाते हैं.

  1. किशोरावस्था भी है स्ट्रेच मार्क्स के लिए ज़िम्मेदार

किशोरावस्था के दौरान बच्चों का शारीरिक विकास बड़ी ही तेज़ी से होता है. उनका या तो तेज़ी से वज़न बढ़ता है या कम होता है. त्वचा में आनेवाले इस अचानक खिंचाव या सिकुड़न के चलते उनके नितंबों, जांघों और लड़कियों के केसेस में ब्रेस्ट्स पर स्ट्रेच मार्क्स आते हैं.

  1. वज़न बढ़ने के साथ है स्ट्रेच मार्क्स का गहरा नाता

अगर किसी का अचानक वज़न बढ़ता है तो इस बात की संभावना बढ़ जाती है कि उसे स्ट्रेच मार्क्स आएंगे. ऐसा त्वचा के अचानक खिंचाव के चलते होता है. यदि आप डायट पर हैं और आपका वज़न तेज़ी से कम हो रहा है तो भी आपकी त्वचा पर स्ट्रेच मार्क्स आ सकते हैं. इसीलिए वज़न बढ़ाना हो या घटाना, धीरे-धीरे किया जाना चाहिए, इससे त्वचा पर अचानक प्रेशर नहीं आता.

  1. कुछ दवाइयों, क्रीम्स और लोशन भी देते हैं स्ट्रेच मार्क्स

कॉर्टिकोस्टेरॉइड क्रीम्स, लोशन या पिल्स, जिनका इस्तेमाल कुछ तरह के त्वचा संबंधी विकारों को दूर करने के लिए किया जाता है, वे भी स्ट्रे मार्क्स दे सकते हैं, क्योंकि इनके इस्तेमाल से त्वचा का कोलैजन स्तर काफ़ी नीचे आ जाता है. कोलैजन का स्तर नीचे आने पर त्वचा के प्राकृतिक खिंचाव और लचक में कमी आती है, जिसके चलते स्ट्रेच मार्क्स आते हैं.

  1. आनुवांशिक कारण

अगर आपके माता-पिता में से किसी को स्ट्रेच मार्क्स की समस्या है तो इस बात की काफ़ी संभावना है कि आपको भी इस समस्या से दो-चार होना पड़ सकता है.

  1. कुछ तरह की मेडिकल कंडिशन

कुछ दुर्लभ मेडिकल कंडिशन्स यानी बीमारियां हैं-कुशिंग्स सिंड्रोम, मारफ़ान्स सिंड्रोम, एलर्स-डैनलोस और कुछ ऐड्रिनल ग्लैंड डिस्ऑर्डर… जिनके चलते त्वचा पर स्ट्रेच मार्क्स आते हैं. कुशनिंग सिंड्रोम में शरीर कॉर्टिसॉल नामक हार्मोन का कुछ ज़्यादा ही प्रोडक्शन करता है, जिसके चलते त्वचा पर स्ट्रेच मार्क्स आते हैं. मारफ़ान्स सिन्ड्रोम में कुछ जेनेटिक गड़बड़ियों के चलते शरीर की त्वचा और कनेक्टिव टिशूज़ कमज़ोर हो जाते हैं, इस वजह से इलैस्टिसिटी कम हो जाती है और स्ट्रेच मार्क्स आते हैं.

  1. बॉडी बिल्डिंग का एक साइड इफ़ेक्ट है स्ट्रेच मार्क्स

ज़्यादातर बॉडी बिल्डर्स को स्ट्रेच मार्क्स की समस्या का सामना करना पड़ता है. उनके मसल मास में होने वाली तेज़ वृद्धि और कभी-कभी एनाबोलिक स्टेरॉइड्स के ग़लत इस्तेमाल के चलते उनके मसल की ग्रोथ कुछ ज़्यादा ही तेज़ हो जाती है. इन सबका परिणाम स्ट्रेच मार्क्स के रूप में सामने आता है.

कितने प्रकार के होते हैं स्ट्रेच मार्क्स

 

  1. लाल स्ट्रेच मार्क्स

लाल रंग के स्ट्रेच मार्क्स को स्ट्रिया रूबरा भी कहा जाता है. लाल रंग के स्ट्रेच मार्क्स नए होते हैं, जिसके कारण लाल या पर्पल रंग के दिखते हैं. जब त्वचा का डर्मल लेयर खिंचाता है और ब्लड वेसल्स दिखने लगती हैं तो इस तरह के स्ट्रेच मार्क्स बनते हैं. जब स्ट्रेच मार्क्स लाल रंग के होते हैं, तब आपको उनके इर्द-गिर्द तेज़ खुजली चलती है. इस तरह के स्ट्रेच मार्क्स चूंकि नए होते हैं इसलिए उनसे छुटकारा पाना आसान होता है.

  1. सफ़ेद स्ट्रेच मार्क्स

सफ़ेद रंग के स्ट्रेच मार्क्स को स्ट्रिया अल्बा कहा जाता है. इस तरह के स्ट्रेच मार्क्स सबसे ज़्यादा ज़िद्दी होते हैं. ये सफ़ेद या सिल्वर रंग के होते हैं. जब ब्लड वेसल्स की साइज़ कम होने लगती है तब त्वचा में बारीक़ रेखाएं आने लगती हैं, जिसके चलते त्वचा के नीचे का फ़ैट दिखने लगता है. चूंकि सफ़ेद स्ट्रेच मार्क्स काफ़ी पुराने होते हैं तो उन्हें ठीक होने में या उन्हें दूर करने में काफ़ी ज़्यादा समय लग सकता है.

 

डॉ चोपड़ा कहती हैं,‘‘भले ही हमारी त्वचा इलैस्टिक होती हो, पर जब उसमें ज़्यादा खिंचाव होता है तब कोलैजन के स्तर में गड़बड़ी पैदा होती है, जिससे स्ट्रेच मार्क्स आते हैं. शुरू में वे पिंक या लाल रंग के होते हैं. उस समय यदि उनपर ट्रिटिनोइन युक्त क्रीम लगाया जाए तो उन्हें हटाने में मदद मिलती है. जब वे सफ़ेद हो जाते हैं तो उन्हें दूर करने में विटामिन ई क्रीम से मदद मिल सकती है. स्ट्रेच मार्क्स को पूरी तरह हटा पाना संभव नहीं है. पर कुछ प्राकृतिक उपचार के तरीक़े हैं, जो उन्हें हल्का कर सकते हैं. अगर आप भी स्ट्रेच मार्क्स की समस्या से परेशान हैं तो अपने डर्मैटोलॉजिस्ट से संपर्क करें.’’

 

स्ट्रेच मार्क्स से छुटकारा पाने के घरेलू नुस्ख़े

  1. आरगन ऑयल

विटामिन ई के गुणों से भरपूर आरगन ऑयल त्वचा की इलैस्टिसिटी को बढ़ाता है. आरगन ऑयल से त्वचा पर मसाज करने से टूटे हुए टिशूज़ के रिपेयर में मदद मिलती है, जिसके चलते स्ट्रेच मार्क्स हल्के पड़ते हैं.

  1. नींबू का रस

नींबू के रस को उसके प्राकृतिक ब्लीचिंग गुणों के लिए जाना जाता है. नींबू के रस से स्ट्रेच मार्क्स को प्रभावी तरीक़े से हल्का किया जा सकता है. अपने स्ट्रेच मार्क्स पर नींबू का ताज़ा रस लगाएं या आप नींबू काटकर स्ट्रेच मार्क्स की जगह पर रगड़ सकते हैं.

  1. अंडे की सफ़ेदी

प्रोटीन्स और अमीनो एसिड्स की प्रचुर मात्रा से भरा हुआ एग वाइट यानी अंडे की सफ़ेदी त्वचा के लिए किसी सुपरफ़ूड से कम नहीं है. जब इसे स्ट्रेच मार्क्स पर लगाया जाता है तो यह त्वचा में कसावट लाता है और स्ट्रेच मार्क्स को हल्का करता है.

  1. आलू का जूस

आलू में स्टार्च होता है, जो त्वचा की रंगत को सुधारने के लिए मशहर एन्ज़ाइम है. यही कारण है कि अक्सर आपके काले घेरों को उजला बनाने, त्वचा के दाग़-धब्बों को हटाने के लिए इसके इस्तेमाल के बारे में सुना होगा. यह त्वचा को ब्लीच करता है और स्ट्रेच मार्क्स को हल्का करता है.

  1. ऑलिव ऑयल

मॉइस्चराइज़िंग गुणों से भरपूर ऑलिव ऑयल में पर्याप्त मात्रा में ऐंटी-ऑक्सिडेंट्स और दूसरे पोषक तत्व होते हैं, जो क्षतिग्रस्त त्वचा को रिपेयर करने में कमाल के असरदार होते हैं. स्ट्रेच मार्क्स पर कोल्ड-प्रेस्ड ऑलिव ऑयल लगाने से वे धीरे-धीरे काफ़ी हल्के पड़ जाते हैं.

  1. शक्कर

शक्कर, ऑलिव ऑयल, नींबू का जूस मिलाकर स्क्रब तैयार करें. इस स्क्रब को स्ट्रेच मार्क्स पर लगाकर 10 मिनट तक के लिए रगड़ें. उसके बाद हल्के गुनगुने पानी से धो दें.

  1. कैस्टर ऑयल

कैस्टर ऑयल यानी अरंडी के तेल को सीधे स्ट्रेच मार्क्स पर लगाएं और 15 से 20 मिनट तक सर्कुलर मोशन में मसाज करें. मसाज करने के बाद उस हिस्से को पतले कॉटन के कपड़े से ढक दें. उसके बाद हीटिंग पैड से उस जगह को गरम करें. बेहतर रिज़ल्ट के लिए क़रीब एक महीने तक इस नुस्ख़े को नियमित रूप से आज़माएं.

  1. एलो वेरा जेल

एलो वेरा की पत्तियों का बाहरी हिस्सा निकाल दें. आपको अंदर एलो वेरा का चिपचिपा जेल दिखने लगेगा. इस जेल को स्ट्रेच मार्क्स पर लगाएं और दो से तीन घंटे बाद पानी से धो दें.

  1. एप्रिकोट्स

बीज निकालने के बाद दो से तीन एप्रिकोट्स को पीस लें. इस तरह उनका स्मूद पेस्ट बन जाएगा. इस पेस्ट को स्ट्रेच मार्क्स से प्रभावित त्वचा पर लगाएं. 20 मिनट के बाद इसे गुनगुने पानी से धो लें.

  1. ब्लैक टी

ब्लैक टी में ढेर सारे विटामिन और मिनरल्स मौजूद होते हैं. उनमें एक प्रमुख है विटामिन बी12, जो कि त्वचा के पिग्मेंटेशन को रोकने में बेदह कारगर है. स्ट्रेच मार्क्स पर ब्लैक टी इस्तेमाल करने के लिए, दो टीस्पून ब्लैक टी उबाल लें, फिर उसमें थोड़ा नमक डालें. जब यह ठंडा हो जाए तो मिश्रण को स्ट्रेच मार्क्स की जगह पर लगाएं. यह नुस्ख़ा लगातार आज़माते रहने के बाद आप पाएंगे कि स्ट्रेच मार्क्स कम हो रहे हैं.

 

स्ट्रेच मार्क्स से छुटकारा पाने की डायट

  1. पानी

रोज़ाना कम से कम 8 से 10 गिलास पानी पाना त्वचा की सेहत के लिए अच्छा माना जाता है. इससे त्वचा की इलैस्टिसिटी बरक़रार रहती है. त्वचा नर्म और मुलायम बनी रहती है. इतना ही नहीं, त्वचा से स्ट्रेच मार्क्स भी कम होते हैं.

  1. विटामिन सी

बेरीज़, कच्ची पत्ता गोभी, कीवी फ्रूट्स, मेलन, मटर, काली मिर्च, ब्रोकली, अनन्नास, पालक, टमाटर आदि जैसे विटामिन सी से भरे फल और सब्ज़ियां त्वचा के वरदान कही जाती हैं. इनका ऐंटी-ऑक्सिडेंट गुण शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालता है और फ्री रैडिकल्स से छुटकारा दिलाता है. डायट में पर्याप्त विटामिन सी शामिल करने से त्वचा पर से चोट के निशान भी जल्दी ग़ायब होते हैं.

  1. विटामिन ई

विटामिन ई भी एक ऐंटी-ऑक्सिडेंट है, जो फ्री रैडिकल्स से लड़ने और त्वचा को भीतर से पोषण देने में बेहद कारगर है. बादाम, कद्दू, हेज़लनट, पाइन नट, पालक, एवोकैडो, ब्रोकलि, पार्स्ले, पपीता और आलिव्स आदि विटामिन ई का बेहतर स्रोत हैं. अपने रोज़ाना के खानपान में विटामिन ई युक्त फलों और सब्ज़ियों को शामिल करके आप स्ट्रेच मार्क्स के निशान को कम कर सकते हैं.

  1. जिलेटिन

जिलेटिन में कोलैजन होता है, जो कि हमारी त्वचा का भी एक महत्वपूर्ण घटक है. कालैजन ही तो है, जो त्वचा को इलैस्टिक बनाता है. बोन ब्रोथ (चिकन, लैंब या बीफ़) को नैचुरल जिलेटिन का बेहतरीन स्रोत माना जाता है.

  1. ओमेगा-3 फ़ैटी एसिड

ओमेगा-3 फ़ैटी एसिड्स को भी त्वचा की इलैस्टिसिटी बढ़ाने के लिए जाना जाता है. अलसी, चिया सीड्स, साल्मन, सार्डिन, कॉड लिवर, वॉलनट, सोयाबीन, बीफ़, टोफ़ू, श्रिम्प और फूल गोभी को ओमेगा-3 फ़ैटी एसिड का बेहतरीन स्रोत माना जाता है.

 

स्ट्रेच मार्क्स से संबंधित पूछे जानेवाले आम सवालों के जवाब

 

सवाल: नितंबों पर स्ट्रेच मार्क्स होने का क्या कारण है?

जवाब: नितंबों पर स्ट्रेच मार्क्स आमतौर पर तब आते हैं, जब त्वचा का डर्मल लेयर खिंचाता है. यह खिंचाव किशोरावस्था में शरीर की प्राकृतिक वृद्धि, अचानक वज़न बढ़ने या कम होने, मसल बनन या प्रेग्नेंसी के चलते हो सकता है. इसके अलावा कई बार स्ट्रेच मार्क्स के कारण जेनेटिक भी हो सकते हैं. कहने का मतलब यदि आपके फ़ैमिली ज़्यदाातर लोग त्वचा पर स्ट्रेच मार्क्स होने की समस्या से परेशान हैं तो इस बात की संभावना बढ़ जाती है कि कभी न कभी आपको भी इस समस्या से जूझना पड़ सकता है.

 

त्वचा के डर्मिस में मज़बूत और आपस में जुड़े हुए फ़ाइबर्स होते हैं, जो शरीर की वृद्धि के साथ खिंचाते हैं. जब अचानक वज़न बढ़ जाता है, तब त्वचा में कुछ ज़्यादा ही खिंचाव हो जाता है, जिससे ये फ़ाइबर्स टूट जाते हैं और परिणाम स्ट्रेच मार्क्स के रूप में सामने आता है. जब डर्मिस टूटता है, तब त्वचा के नीचे स्थित ब्लड वेसल्स शुरू-शुरू में इन स्ट्रेच मार्क्स को लाल या पर्पल रंग दे देते हैं. आगे चलकर जब ये ब्लड वेस्लस छोटे होते जाते हैं, तब आपकी त्वचा के नीचे स्थित पेल कलर का फ़ैट दिखना शुरू हो जाता है, जिसके कारण स्ट्रेच मार्क्स का कलर सिल्वरी ग्रे हो जाता है

 

सवाल: स्ट्रेच मार्क्स से बचने के लिए क्या किया जा सकता है?

जवाब: रोज़ाना 8 से 10 गिलास पानी पीने से त्वचा की इलैस्टिसिटी बरक़रार रखने में मदद मिलती है. त्वचा नर्म और मुलायम बनी रहती है. पर्याप्त पानी पीने के साथ-साथ आप यह सुनिश्चित करें कि त्वचा को समय-समय पर मॉइस्चराइज़ करते रहेंगे और उसका एक्सफ़ोलिएशन भी. आपको अपने खानपान में विटामिन सी, विटामिन ई और ओमेगा-3-फ़ैटी एसिड से भरपूर चीज़ें शामिल करनी होंगी.

 

सवाल: स्ट्रेच मार्क्स को हटाने में कितना समय लगता है?

जवाब: आप त्वचा के स्ट्रेच मार्क्स को पूरी तरह नहीं हटा सकते, पर अच्छी बात यह है कि समय के साथ इन स्ट्रेच मार्क्स को हल्का किया जा सकता है. यदि आप अपनी त्वचा और सेहत का अच्छे से ख़्याल रखना शुरू करते हैं तो 6 से 12 महीनों में ये काफ़ी हल्के हो सकते हैं. इस लेख में बताए गए प्राकृतिक घरेलू नुस्ख़े आपके बड़े काम आ सकते हैं.

 

सवाल: स्ट्रेच मार्क्स रिमूवल ट्रीटमेंट कितने सुरक्षित हैं?

जवाब: यहां बताए गए प्राकृतिक घरेलू नुस्ख़े सुरक्षित तरीक़े से स्ट्रेच मार्क्स को हल्का करते हैं. इसके अलावा आप चाहें तो मेडिकल या सर्जिकल विकल्पों को भी अपना सकते हैं. पल्स्ड डाई लेज़र, जिसे वैस्कुलर लेज़र भी कहा जाता है, शुरुआती दौर के स्ट्रेच मार्क्स को प्रभावी तरीक़े से हटाने में बेहद कारगर है. हालांकि यदि आपकी त्वचा की रंगत गहरी होगी तो इस ट्रीटमेंट का उतना अच्छा प्रभाव देखने नहीं मिलेगा.
पुराने स्ट्रेच मार्क्स को दूर करने में फ्रैक्शनल लेज़र ट्रीटमेंट से काफ़ी मदद मिलती है. माइक्रोडर्माब्रेशन जो कि आमतौर पर ऐक्ने के इलाज के लिए यूज़ किया जाता है, स्ट्रेच मार्क्स के ट्रीटमेंट में भी काफ़ी प्रभावी है. हालांकि इससे त्वचा में इरिटेशन हो सकता है. प्रेग्नेंसी के स्ट्रेच मार्क्स में एब्डमिनोप्लास्टी से मदद मिल सकती है. पर यह ट्रीटमेंट काफ़ी महंगा है और इसमें काफ़ी रिस्क भी है. कोईल भी ट्रीटमेंट कराने के पहले डॉक्टर की सलाह ज़रूर लें.

 

सवाल: क्या पेट्रोलियम जेली स्ट्रेच मार्क्स के लिए अच्छे होते हैं?

जवाब: पेट्रोलियम जेली से त्वचा मॉइस्चराइज़ होती है उसकी इलेस्टिसिटी बरक़रार रहती है. साथ ही यह त्वचा पर सौम्य होती है. मॉइस्चर लॉक कर देती है, जिससे त्वचा नर्म और मुलायम बनी रहती है. पेट्रोलियम जेली वाली क्रीम से रोज़ाना स्ट्रेच मार्क्स वाली जगह पर मसाज करने से नए टिशूज़ की ग्रोथ में मदद मिलती है, जिससे कोलैजन का बैंड ब्रेक होता है और स्ट्रेच मार्क्स हल्के पड़ते हैं.

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।