नरेंद्र बरागटा ने “ग्राम सभा से विधानसभा“ के तहत जुब्बल क्षेत्र के अंटी, झाल्टा व गिलटाड़ी पंचायतों में सुनी जन समस्याएं #news4
February 27th, 2021 | Post by :- | 180 Views

शिमला, 27 फरवरी : मुख्य सचेतक हिमाचल प्रदेश व जुब्बल-नावर-कोटखाई के विधायक नरेंद्र बरागटा ने विशेष कार्यक्रम “ग्राम सभा से विधानसभा“ के तहत जुब्बल क्षेत्र के अंटी, झाल्टा व गिलटाड़ी पंचायतांे का दौरा कर पंचायत प्रतिनिधियों व लोगों की जन समस्याएं सुनी।

ग्राम पंचायत अंटी में जन समस्याओं को सुनने के उपरांत मुख्य सचेतक नरेंद्र बरागटा ने कहा कि स्नेल से हाटकोटी सड़क के लिये 93 करोड़ आवंटन किया गया है, जिसका कार्य शीघ्र ही शुरू किया जाएगा। साथ ही साथ ठियोग-हाटकोटी सड़क में बन रहे पुल 6 महीने में लगभग तैयार हो जायेगंे, जिस पर लगभग 29 करोड़ रुपए की राशि खर्च की जा रही है। ठियोग-हाटकोटी सड़क सुरक्षा के लिए लगभग 32 करोड़ रुपए की राशि खर्च की जा रही है तथा अन्य कार्यों के लिए 12 करोड़ रुपए की राशि खर्च की जा रही है।

उन्होंने कहा कि हाटकोटी मंदिर के हाईटेक लाइटो, पार्क के सौंदर्यीकरण व पार्किंग तथा माता रानी दरबार के दो गेट के लिये 4.5 करोड़ की योजना स्वीकृत हुई है। उन्होंने कहा कि जुब्बल-नावर-कोटखाई एक आदर्श विधानसभा बनाई जायेगी। उन्होंने बताया कि खड़ापत्थर में नेशनल हाइवे का सब डीविजन बनने की मंजूरी प्रदान की जा चुकी हैं, जिसका जल्द ही टेंडर आवंटन कर अप्रैल माह में कार्य शुरू किया जाएगा।

नरेंद्र बरागटा ने कहा है कि पराला मंडी में 100 करोड़ की लागत से आधुनिक तकनीक युक्त प्रोसेसिंग प्लांट स्थापित किया जा रहा है, जिससे क्षेत्र के बागवानों को लाभ प्राप्त होगा। उन्होंने कहा है कि सभी अधिकारी जिम्मेदारी के साथ कार्य करें और जनता के कार्य मे कोई कोताही न बरतें ताकि प्रदेश सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं का लोगों को ज्यादा से ज्यादा लाभ प्राप्त हो सके।

उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के कारण भी क्षेत्र में विकास की धारा नहीं रुकी तथा क्षेत्र में करोड़ों के शिलान्यास व उद्घाटन किए गए। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में बागवानों के उत्थान के लिए बहुत सारी मंडिया स्थापित की जा चुकी है। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में किए गए शिलान्यासों का निरीक्षण किया जाएगा ताकि विकास कार्यों को जल्द से जल्द पूर्ण कर लोगों को लाभान्वित किया जा सके।

उन्होंने बताया कि आगामी दिनों में विकास की गति को और तेज किया जाएगा। उन्होंने बताया कि 66 केवी सब स्टेशन का निर्माण कार्य शुरू किया जा चुका है, जिस पर 56 करोड़ रुपए की लागत की जा रही है, जिसका निर्माण कार्य 31 जुलाई तक पूर्ण होने की संभावना है।

उन्होंने बताया कि विधानसभा क्षेत्र जुब्बल-नावर-कोटखाई के लिए ब्रिक्स से 41.5 करोड़ रुपये की उठाऊ पेयजल योजना की स्वीकृति मिल चुकी है, जिससे क्षेत्र के लोगों को इसका लाभ मिलेगा।

झाल्टा पंचायत में जनसमस्या सुनने के उपरांत नरेंद्र बरागटा ने अपने संबोधन में कहा कि पंचायत प्रतिनिधि दलदल की राजनीति से ऊपर उठकर सरकार के साथ गांव व पंचायत का विकास करे। उन्होंने बताया कि झाल्टा पंचायत में अभूतपूर्व विकास किए जा रहे है उन्होंने कहा कि झाल्टा पंचायत को मॉडल पंचायत बनाने के लिए सभी विभाग समन्वय स्थापित कर कार्य करें।
उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायत प्रतिनिधि विभिन्न विभागों के साथ समन्वय स्थापित कर स्वच्छता, नशा निवारण एवं समाज में अन्य कुरीतियों को दूर करने के लिए कार्य करें।
उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा कोरोना से बचाव के लिए जारी विशेष मानक संचालन प्रक्रिया का पालन करें ताकि हम खुद को, अपने परिवार को व समाज को सुरक्षित रख सके।

इस अवसर पर नरेंद्र बरागटा ने झाल्टा गांव में हुई आगजनी क्षेत्र का दौरा किया तथा पीड़ित परिवारों को हर संभव सहायता मुहैया प्रदान करने को कहा।

गिलटाड़ी पंचायत की समस्याएं सुनने के उपरांत नरेंद्र बरागटा ने कहा कि पंचायत जनप्रतिनिधि लोगों के बीच बैठ कर उनकी समस्यायों का हल करें। उन्होंने बताया कि व्यक्तिगत व सरकार के स्तर पर क्षेत्र के विकास के लिए हर संभव प्रयास किए जाएंगे।

इस अवसर पर मण्डल महामंत्री सतीश पीरटा, मण्डल उपाध्यक्ष अशोक चैहान, झाल्टा पंचायत प्रधान महाबीर झगटा, उप-प्रधान प्रदीप, गिलटाड़ी पंचायत प्रधान नैना तनेटा, अंटी पंचायत प्रधान रविंदर रावत, उपमण्डलाधिकारी बी.आर. शर्मा, बिजली बोर्ड के अधिशाषी अभियंता, सिंचाई योजना के अधिशाषी अभियंता, लोक निर्माण विभाग के अधिशाषी अभियंता, महिला एवं बाल विकास के अधिकारी, तहसीलदार, खण्ड विकास अधिकारी कर्ण सिंह, अनन्त लाल केसटा, भगवान सिंग भगलेट, पपु झगटा आदि मौजूद रहे।
.0.

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।