सिलाई अध्यापिकाओं के लिए बने ठोस नीति, एसडीएम को सौंपा ज्ञापन #news4
July 19th, 2021 | Post by :- | 176 Views

धर्मशाला : जिला कांगडा के विधानसभा क्षेत्र शाहपुर के तहत आने वाले रैत ब्लाक की सिलाई कढाई अध्यापक संघ की प्रधान और जिला कांगडा भारतीय मजदूर संघ ईकाई कांगडा की प्रधान पुष्पा पठानिया ने आज सिलाई अध्यापिकाओं के लिए ठोस नीति बनाने को लेकर एक ज्ञापन एसडीएम शाहपुर के माध्यम से सरकार को भेजा।

रैत ब्लाक सिलाई कढाई अध्यापक संघ की प्रधान और भारतीय मजदूर संघ ईकाई कांगडा की प्रधान पुष्पा पठानिया ने बताया कि सिलाई कढाई अध्यापिकाएं साल 1997 से रेगुलर अपनी सेवाएं दे रही हैं। नबंवर 2017 से सिलाई कढ़ाई अध्यापिकाओं को पंचायतों के साथ जोड़ दिया और उनके कार्य करने का समय दस बजे से लेकर पांच बजे तक कर दिया। साल 2017 से सिलाई कढ़ाई अध्यापिकाएं पंचायत सचिव के साथ काम कर रही हैं। इस काम के बदले सिलाई कढाई अध्यापिकाओं को 7100/रुपये मासिक वेतन दिया जाता है।

बढ़ती मंहगाई के कारण इस बेतन से जीवन यापन करना मुश्किल हो गया है। इसलिए उन्होंने एसडीएम शाहपुर के माध्यम से सरकार को भेजे गए ज्ञापन में सिलाई कढाई अध्यापिकाओं के बारे में नई नीति बनाने नियमित करने की मांग की है। एसडीएम शाहपुर को सौंपे गए ज्ञापन के अवसर पर आशावर्कर ,अन्य सिलाई कढाई अध्यापिकाएं रमा,रोणी,राजकुमारी, मीना, मंजू, सुनीता, सरोज, रेखा, सोनिया आदि मौजूद रही। उन्होंने बताया कि जिला भर में यह ज्ञापन भी सौंपे गए हैं, जिनमें अपनी मांगों को पूरा करने के संदर्भ में ज्ञापन भी सौंपे गए हैं।

उन्होंने बताया कि संघ अपनी मांगाें को लेकर काफी समय से संघर्षरत भी है लेकिन उनकी कोई भी सुनवाई नहीं हो रही है। उन्होंने कहा कि यह वर्ग काफी पीड़ित भी है। और कई बार सरकार से आग्रह के बाद भी उनकी समस्या का हल नहीं हो पाया है। यह भी निर्णय लिया गया है कि अगर उनके लिए कोई ठोस नीति नहीं बनाई जाती है वह आंदोलन को लेकर बाध्य भी होंगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।