पोस्टर वार में भी उम्मीदवारों ने झोंकी ताकत #news4
January 13th, 2021 | Post by :- | 158 Views

ऊना : जिले में अगर पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव की तस्वीर को देखें तो यह विधानसभा चुनावों की तुलना में भी प्रचार दो कदम आगे बढ़ गया है। जहां उम्मीदवार डोर टू डोर प्रचार को अहमियत दे रहे हैं, वहीं प्रचार सामग्री विधानसभा चुनाव से भी अधिक नजर आ रही है। सभी उम्मीदवार पोस्टर वार में भी एक-दूसरे का मुकाबला कर रहे हैं।

ऊना में जिला परिषद के मोमन्यार और टब्बा वार्ड में प्रत्याशियों की ओर से पोस्टर जंग में एक-दूसरे को पछाड़ने की होड़ लग चुकी है। यहां तक कि एक पोस्टर के साथ अन्य उम्मीदवार भी अपना पोस्टर और अन्य प्रचार सामग्री लगा रहे हैं। कुटलैहड़ क्षेत्र के जिला परिषद मोमन्यार वार्ड में तीन प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं। यहां प्रमुख स्थलों पर प्रचार के लिए लगाए गए होर्डिंग और पोस्टर में सभी एक दूसरे का मुकाबला कर रहे हैं। हालांकि इस वार्ड में भाजपा और कांग्रेस के समर्थित प्रत्याशी मैदान में हैं, लेकिन यहां पोस्टर जंग में निर्दलीय समेत तीनों एक दूसरे को टक्कर दे रहे हैं। तलमेहड़ा से रायपुर और खुरवाईं तक लंबे चौड़े इस वार्ड में कोई भी ऐसा स्थल नहीं है जहां पोस्टर जंग में कोई भी प्रत्याशी एक दूसरे से कम हो। पोस्टर जंग में एक निर्दलीय यहां अपने पोस्टर के साथ नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री की फोटो के साथ नजर आ रहे हैं। एक प्रत्याशी मंत्री वीरेंद्र कंवर के साथ पोस्टर में हैं।

टब्बा वार्ड कुटलैहड़ और सदर दो विधानसभा क्षेत्रों में फैला है। यहां कांग्रेस और भाजपा के उम्मीदवारों में आमने-सामने की टक्कर है। इस वार्ड में सतपाल सत्ती के करीबी निवर्तमान प्रधान अशोक कुमार भाजपा के समर्थित उम्मीदवार हैं जबकि अभिनव कुमार कांग्रेस समर्थित प्रत्याशी हैं। भाजपा समर्थित प्रत्याशी द्वारा अपने पोस्टर में अपने प्रमुख नेताओं को भी पोस्टर में दिखाया है जबकि कांग्रेस के उम्मीदवार के पोस्टर पर किसी प्रमुख नेता का चित्र नहीं दिखा है। हालांकि इस पोस्टर युद्ध में दोनों उम्मीदवार एक-दूसरे को कड़ी चुनौती दे रहे हैं। हैरानी की बात तो यह है कि पंच से पंचायत समिति सदस्य पद के उम्मीदवार भी पोस्टर जंग और प्रचार सामग्री को लेकर कहीं कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

जिला परिषद के इन वार्डो में उम्मीदवारों की बात करें तो वे चुनाव प्रचार के अंतिम दिन तक प्रत्येक घर तक पहुंचने के प्रयास में हैं। हालांकि मंत्री वीरेंद्र कंवर अपने समर्थित उम्मीदवारों के पक्ष में प्रचार कर रहे हैं। उधर, सतपाल सत्ती भी भाजपा समर्थित प्रत्याशियों की जीत को सुनिश्चित बनाने के लिए नुक्कड़ सभाओं में नजर आ रहे हैं। खर्च की सीमा तय होने के बावजूद प्रत्याशियों की ओर से प्रचार के लिए किए जा रहे खर्च में कटौती कहीं नजर नहीं आई है। इंटरनेट मीडिया में भी प्रचार तेज

जिला परिषद वार्ड मोमन्यार और टब्बा में प्रत्याशी अपने प्रचार के लिए इंटरनेट मीडिया का भी सहारा ले रहे हैं। इसमें फेसबुक पोस्ट और वाट्सएप ग्रुप बनाकर लोगों को जोड़कर उनमें संदेश छोड़े जा रहे हैं। इस माध्यम से ही प्रत्याशी अपने प्रचार को गति देने का भी प्रयास कर रहे हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।