स्वास्थ्य मंत्री बोले-कोरोना वैक्सीन लगने के बाद 51 लोगों में दिखे साइड इफेक्ट,1 की तबीयत बिगड़ी #news4
January 17th, 2021 | Post by :- | 250 Views

देश में 16 जनवरी को कोरोना टीकाकरण की शुरुआत हुई जिसके बाद फ्रंटलाइन पर काम करने वाले स्वास्थ्यकर्मियों और सफाईकर्मियों को कोरोना वैक्सीन दी गई। हालांकि दिल्ली में 51 लोगों में इस वैक्सीिन के साइड इफेक्ट भी देखने को मिले। इस पर दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने कुछ सवालों के जवाब दिए हैं। स्वास्थ्य मंत्री जैन ने कहा कि शनिवार को 51 ऐसे मामले सामने आए थे जिनको कोरोना वैक्सीन के बाद थोड़ी परेशानी हुई।

एक शख्स की हालत इस दौरान गंभीर हो गई थी, उसे एम्स में भर्ती कराया गया है। जिस हेल्थकेयर वर्कर को एडमिट कराया गया है, उसकी उम्र 22 साल है और वहां सिक्योरिटी में काम करता हैं। शनिवार रात को उसे ICU में भर्ती कराया गया था। जैन ने कहा कि सिर्फ एक को ही अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ा बाकि को थोड़ी देर के निरीक्षण के बाद छुट्टी दे दी गई।

इसिलए नहीं पहुंचे कई स्वास्थ्य मंत्री
उत्तरी दिल्ली नगर निगम (NDMC) के महापौर जय प्रकाश शनिवार को दिल्ली सरकार के लोक नायक जयप्रकाश अस्पताल के कोविड-19 टीकाकरण केंद्र गए लेकिन उन्होंने इस टीकाकरण अभियान के पहले चरण में 81 केंद्रों की सूची में नगर निगम के अस्पतालों को शामिल नहीं किए जाने पर अफसोस जताया। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने पत्रकारों से कहा कि यह निर्णय निगम के कर्मियों की हड़ताल के चलते लिया गया। उत्तरी दिल्ली नगर निगम के चार अस्पतालों-हिंदू राव अस्तपाल, कस्तूरबा अस्पताल, गिरधारी लाल मातृत्व अस्पताल और राजन बाबू टीबी अस्पातल को टीकाकरण से पहले पूर्वाभ्यास के लिए चुना गया था। टीकाकरण केंद्रों की संख्या प्रारंभ में 89 तय की गई थी जिसे बाद में घटाकर 75 किया गया और फिर बढ़ाकर 81 कर दिया गया।

कोरोना की डोज के बाद सामने आई ये दिक्कतें
पहले दिन सफाई कर्मियों और स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन की डोज दी गई। वैक्सीन लगने के बाद कुछ लोगों में मामूली परेशानी की शिकायतें सामने आईं। कुछ ने एलर्जी की शिकायत की तो कुछ को घबराहट हुई। सरकार ने हर टीका बूथ के पास एक एईएफआई सेंटर बनाया है जहां टीका लगने के बाद साइड इफेक्ट्स दिखने पर इलाज की सुविधा मिल रही है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।