बारिश में खतरनाक हैं हरी सब्जियां, इन 5 सब्जियों से जरूर बचें #news4
July 17th, 2021 | Post by :- | 328 Views
बरसात के मौसम में चटपटा खाने का मन करता है, गरमा-गरम प्याज, पालक के भजिए की याद आ जाती है लेकिन बारिश के दिन में आपको सेहत का अधिक ख्याल रखना होता है। जी हां, बरसात के दिन में इंफेक्शन का खतरा अधिक होता है, दूषित पानी पीने से भी आम बीमार पड़ सकते हैं।
बरसात का मौसम आते ही चहु ओर हरियाली छा जाती है, सुखी-सुखी सब्जियां भी हरी-भरी हो जाती है लेकिन बरसात में कई तरह की सब्जियां खाने की मनाही होती है, अगर आप नहीं जानते हैं तो आज जान लीजिए-
1.पालक- जी हां, पालक बरसात के दिनों में हरा-भरा जरूर हो जाता है लेकिन इस सब्जी पर हद से ज्यादा बारीक कीड़ें होते हैं इसलिए बरसात के दिनों में पालक का सेवन नहीं करना चाहिए।
2.पत्तागोभी- पत्तागोभी का सलाद के रूप में अधिक प्रयोग किया जाता है लेकिन अधिक परते होने पर बारीक-बारीक कीड़े अंदर तक होते हैं। ऐसे में खाने में कीड़े आपके शरीर में चले जाते हैं तो आप बीमार भी पड़ सकते हैं इस वजह से बारिश के दिनों में पत्तेदार सब्जियों का सेवन नहीं करना चाहिए।
3. बैंगन- गरमा गरम बैंगन का भर्ता किसे अच्छा नहीं लगता है। बरसात के मौसम में और भी अधिक स्वादिष्ट लगता है। लेकिन क्या आप जानते हैं बरसात में फल और फूल आते ही कीड़े लगने लग जाते हैं। पौधों पर कीड़े इस तरह हमला बोलते हैं कि करीब 70 फीसदी तक बैंगन नष्ट हो जाता है।
4. टमाटर- बरसात के मौसम में पाचन प्रक्रिया धीमी हो जाती है। टमाटर में कुछ क्षारीय तत्व मौजूद होते हैं, जिन्हें वैज्ञानिक भाषा में एल्कालॉयड्स कहा जाता है। यह एक प्रकार का जहरीला केमिकल होता है जिन्हें पौधे कीड़ों से बचाने के लिए प्रयोग करते हैं। ऐसे में बारिश के मौसम में टमाटर का अधिक सेवन करने से त्वचा संबंधित बीमारी भी हो सकती है। जैसे- रैशेज होना, नॉजिया, खुजली। ऐसे में बारिश में इसका सेवन करने से परहेज करना चाहिए।
5. मशरूम- बारिश के मौसम में खान-पान पर लगाम लगाना बेहद जरूरी होता है। मशरूम प्रदूषित जगह और वातावरण में पैदा होता है। मशरूम अलग-अलग प्रजाति के होते हैं कुछ जहरीले तो कुछ खाने योग्य। ऐसे में खाने योग्य मशरूम भी शरीर के लिए हानिकारक हो सकते हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।