ग्राम पंचायत गाहर में कारगिल विजय दिवस कार्यक्रम में खाद्य आपूर्ति मंत्री राजिन्द्र गर्ग ने फहराया झण्डा … #news4
July 26th, 2021 | Post by :- | 1827 Views

बिलासपुर 26 जुलाई – ग्राम पंचायत गाहर में कारगिल विजय दिवस कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस मौके पर खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले मंत्री राजिन्द्र गर्ग ने झण्डा फहराने के साथ ही कारगिल शहीदों को अपने श्रद्धासुमन अर्पित किए। उन्होंने अपने सम्बोधन में कहा कि हम सभी के लिए कारगिल विजय दिवस गौरव, गर्व और सम्मान के साथ प्रेरणा भरा दिवस है।
प्रदेश के हजारों युवा देश की सेवा में तैनात है
हिमाचल प्रदेश देव भूमि होने के साथ-साथ वीर भूमि भी रही है और प्रदेश के हजारों युवा सेना व अर्द्धसैनिक बलों में अपनी सेवाएं प्रदान करते हुए मातृभूमि की रक्षा के लिए तैनात है। युद्ध व अन्य विपतियों के दौरान यहां के वीर जवानों ने हमेशा ही अपने साहस और शौर्य का परिचय दिया है। उन्होंने कहा कि कारगिल की लम्बी लड़ाई दुश्मन देश पाकिस्तान की मानसिकता का ही परिणाम है जिन्होंने भारत की पुन्य भूमि पर कब्जा करने की सोच रखी और जिसका परिणाम हमारे वीर सैनिकों द्वारा करारी हार के साथ दी गई।
उन्होंने कहा कि वर्ष 1999 में मई माह के प्रथम सप्ताह में पड़ोसी देश की कायर हरकत से आरम्भ हुआ कारगिल युद्ध भारतीय जवानों की वीर गाथा के साथ आॅपरेशन विजय के माध्यम से अंतिम परिणति तक पहुंचा।

जिला बिलासपुर के 7 जवानों ने कारगिल युद्ध में शाहदत हासिल की
भारतीय सैनिक विषम स्थिति व कठिन भौगोलिक परिस्थितियों के बावजूद दुश्मनों के दांत खट्टे करते हुए 26 जुलाई, 1999 को इन घुसपेठियों को पूर्ण रुप खदेड कर कारगिल पर फतह पाई। इस लड़ाई में प्रदेश के 52 जवानों के साथ जिला बिलासपुर के 7 शहीदों ने अपने प्राण न्याछौवर किए है जिससे मातृ भूमि के प्रति उनके सम्पर्ण की भावना अपने-आप में हम सभी को बहुत बड़ा सन्देश देती है।
उन्होंने इस मौके पर कारगिल युद्ध के नायक संजय कुमार जिन्हें सर्वोच्च सैनिक सम्मान एवं परम वीर चक्र से नवाजा गया और परम वीर चक्र कैप्टन विक्रम बत्रा आदि सभी शहीद सैनिकों को याद किया।
उन्होंने आगे कहा कि उस समय केन्द्र ने तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी ने कारगिल शहीदों की याद में इस दिवस को विजय दिवस के रुप में मनाने की शुरूआत की और पहली बार निर्णय लेते हुए सभी शहीदों के पार्थिक शरीर उनके घरों तक पहुंचाने का श्रेय भी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी जी को ही जाता है।
शहीद सैनिकों और उनके आश्रितों को हर सुविधा करवाई जा रही उपलब्ध

इसके अतिरिक्त शहीद सैनिकों, भूत पूर्व सैनिकों और उनके आश्रितों को उचित मान सम्मान प्रदान किया और उनके आश्रितों को हर तरह की सुविधा उपलब्ध करवाने के साथ-साथ आर्थिक सहायता भी उपलब्ध करवाई गई।
अनुमोदित सैन्य सेवा के लिए मिलने वाले वित्तीय लाभ बहाल
उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा भूतपूर्व सैनिकों व शहीदों के आश्रितों के कल्याण के लिए संकल्पबद्ध है और सैनिकों के हित में कई कल्याणकारी निर्णय लिए गए है तथा भूतपूर्व सैनिकों को अनुमोदित सैन्य सेवा के लिए मिलने वाले वित्तीय लाभ भी बहाल किए गए है।
उन्होंने आगे चर्चा करते हुए कहा कि देश के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र भाई मोदी द्वारा जम्मू कश्मीर में कश्मीरी पंडितों पर लगातार हो रहे अत्याचारों से निजात दिलाने तथा भारत में एक समान संविधान को लागू करने के लिए धारा 370 को हटाकर पूरे देश एक सूत्र में बांध दिया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने कभी भी देश की रक्षा और सुरक्षा से कोई भी समझौता नहीं किया तथा देश की सुरक्षा की खातिर एयर स्ट्राइक और सर्जिकल स्ट्राइक का क्रियान्वयन कर देश के सम्मान को बनाए रखा।
उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा कश्मीर में शहीद हुए शहीद सुबेदार संजीव कुमार के नाम पर शहीद सुबेदार संजीव कुमार राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला हटवाड़ का दर्जा दिया गया है।
ये सभी रहे उपस्थित
इस मौके पर कर्नल जयदेव, कैप्टन सुरजीत सिंह, कैप्टन दाता राम, कैप्टन राम कृष्ण, सुबेदार प्रताप्त सिंह, मण्डाध्यक्ष सुरेश ठाकुर, भाजपा जिला उपाध्यक्ष जोरावर सिंह पटियाल, प्रधान ग्राम पंचायत गाहर तारा चंद, उप प्रधान राम सिंह, शहीद पूर्व सैनिक लिग के विभिन्न पदाधिकारी और सदस्य मौजूद रहे।
.0.
बाॅक्स –
खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले मंत्री राजिन्द्र गर्ग 27 जुलाई को प्रातः 10 बजे नागरिक चिकित्सालय घुमारवीं पाॅवर ग्रिड काॅपरेशन द्वारा कोविड से सम्बन्धित उपकरण वितरण कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे।-0-

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।