बिना लाइसेंस दवाएं बेचने पर पांच साल का कठोर कारावास, 1.20 लाख रुपये का जुर्माना #news4
January 15th, 2021 | Post by :- | 84 Views

हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने वाले एक क्लीनिक संचालक को नाहन की विशेष अदालत ने दोषी करार देते हुए पांच साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। अदालत ने दोषी को 1.20 लाख रुपये का जुर्माना भरने के आदेश भी दिए हैं। शुक्रवार को नाहन में विशेष न्यायाधीश जसवंत सिंह की अदालत ने दोषी को ड्रग एंड कास्मेटिक एक्ट की धारा में पांच साल का कठोर कारावास और जुर्माना की सजा सुनाई है। अदालत में मामले की पैरवी उप जिला न्यायवादी एकलव्य ने की। उन्होंने बताया कि मामला 4 सितंबर 2010 का है। पांवटा के गोंदपुर में क्लीनिक चलाने वाले संचालक की दुकान पर तत्कालीन ड्रग निरीक्षक निशांत सरीन ने कार्रवाई की थी।

इसके बाद मामला अदालत तक पहुंचा। मौजूदा समय में नाहन की ड्रग निरीक्षक भूमिका मंगला ने इस मामले के सभी गवाहों को अदालत में पेश किया। तीनों निरीक्षकों की कड़ी मेहनत के बाद इस मामले में अदालत ने आरोपी को दोषी करार दिया। उप जिला न्यायवादी एकलव्य ने बताया कि क्लीनिक संचालक की दुकान पर छापेमारी के दौरान नशीली दवाइयों के साथ साथ अंग्रेजी दवाएं मिली थीं। मौके पर संचालक दवाइयां रखने का कोई लाइसेंस पेश नहीं कर पाया था। इसके बाद तीनों ड्रग निरीक्षकों ने इस मामले में आगामी कार्रवाई की।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।