वार्षिक बोर्ड परीक्षा के लिए पहले से अधिक बनेंगे परीक्षा केंद
November 30th, 2020 | Post by :- | 96 Views

10वीं और 12वीं की वार्षिक बोर्ड परीक्षा 2021 पर भी कोरोना का असर रहेगा। परीक्षा के दौरान परीक्षार्थियों के बीच सोशल डिस्टैंसिंग बनी रहे, इसके लिए हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड द्वारा पहले की अपेक्षा अधिक परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे। हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड ने इस संदर्भ में तैयारियां शुरू कर दी हैं। जिन स्कूलों में पहले परीक्षा केंद्र नहीं होते थे, वहां भी परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे। हालांकि उन स्कूलों को परीक्षा केंद्र बनाने के लिए बोर्ड द्वारा निर्धारित औपचारिकताएं पूर्ण करनी होंगी, इसके बाद ही उन स्कूलों को परीक्षा केंद्र दिया जाएगा। 10वीं व 12वीं 2020 की वार्षिक परीक्षा के लिए लगभग 2227 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। बोर्ड की मानें तो कोरोना के कारण 2021 की परीक्षा में एहतियात बरती जाएगी। बोर्ड की मानें तो एक कमरे में जितने छात्रों के बैठने की क्षमता है, उससे कम संख्या में छात्रों को बिठाया जाएगा। परीक्षार्थियोंं के बीच में एक डैस्क की दूरी भी रखी जाएगी। बोर्ड परीक्षा से पहले कोरोना बचाव के निर्देश भी दिए जाएंगे। परीक्षा केंद्रों पर परीक्षार्थी को किन बातों का ख्याल रखना है, इसकी जानकारी दी जाएगी।

10वीं व 12वीं के बोर्ड परीक्षार्थियों की संख्या बढ़ेगी
मार्च 2021 में 10वीं व 12वीं के बोर्ड परीक्षार्थियों की संख्या इस वार पहले के मुकाबले बढ़ेगी। कोरोना के चलते इस वर्ष बोर्ड कक्षाओं को छोड़कर अन्य कक्षाओं के परीक्षार्थियों को प्रमोट कर दिया गया है। ऐसे में 9वीं व 11वीं के परीक्षार्थियों को प्रमोट करने के चलते परीक्षार्थी के फेल न होने के कारण 10वीं व 12वीं के परीक्षार्थियोंं की संख्या बढ़ेगी। विदित रहे कि मार्च में 10वीं 2020 की परीक्षा में लगभग 104336 परीक्षार्थी बैठे थे वहीं 12वीं 2020 की परीक्षा में 86,633 विद्यार्थी बैठे थे। हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड अध्यक्ष डा. सुरेश कुमार सोनी का कहना है कि10वीं और 12वीं की वार्षिक परीक्षा मार्च के अंतिम सप्ताह से शुरू करने की तैयारी है। परीक्षा के दौरान परीक्षार्थियोंं के बीच सोशल डिस्टैंसिंग रहे, इसके लिए स्कूल शिक्षा बोर्ड द्वारा पहले की अपेक्षा अधिक परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।