तांबे के बर्तनों में पानी पीना होता है फायदेमंद … #news4
October 24th, 2020 | Post by :- | 153 Views

तांबे के बर्तन में पानी पीने के स्वास्थ्य लाभ प्रचुर मात्रा में हैं। तांबे के बर्तन में रात भर रखा हुआ पानी पीने से शरीर को बहुत सारे लाभ मिलते हैं। यह पेट लीवर और किडनी को डिटॉक्सीफाई करता है। कमजोर पड़ने की प्रणाली वजन घटाने को बढ़ाती है और लंबे समय तक युवा रहने में मदद करती है। घर पर स्टील के ग्लास को कॉपर ग्लास से बदला जा रहा है। लेकिन खाने-पीने की बहुत सी चीजें हैं, उन्हें तांबे के बर्तन में रखने से वह खराब हो जाती है। हम 4 ऐसी चीजें देखेंगे जिन्हें कभी भी तांबे के बर्तन में नहीं खाना और पीना चाहिए क्योंकि यह सेहत को नुकसान पहुंचाती है।

1. दूध, दही, पनीर तांबे के बर्तन से रखे जाने और सेवन करने पर सेहत को नुकसान पहुंचाता है। दही में खनिज और विटामिन कॉपर के साथ मिलकर प्रतिक्रिया करते हैं, और खाद्य विषाक्तता का कारण बनते हैं। घबराहट या मतली जैसी समस्याएं विकसित होती हैं। दूध, दही या पनीर को कभी भी तांबे के बर्तन में न रखें।

2. छाछ सेहत के लिए फायदेमंद है लेकिन कॉपर ग्लास में पीने से उल्टा असर होता है। छाछ या लस्सी को तांबे के बर्तन में रखने से छाछ के गुण नष्ट हो जाते हैं।

3. खट्टी चीजें तांबे के साथ मिलकर प्रतिक्रिया करती हैं और हानिकारक प्रभाव देती हैं। सिरका का अचार, आम या सुंबी का अचार, सॉस या जैम, तांबे के बर्तन में नहीं रखना चाहिए। यह अवसाद, कमजोरी या मतली का कारण बनता है और तांबे की विषाक्तता को जन्म दे सकता है।

4. नींबू पानी सेहत के लिए अच्छा होता है। अक्सर लोग वजन कम करने के लिए सुबह खाली पेट नींबू पानी पीते हैं, लेकिन स्टील या ग्लास की बजाय कॉपर ग्लास का इस्तेमाल आपको नुकसान पहुंचा सकता है। नींबू में पाया जाने वाला एसिड तांबा के साथ प्रतिक्रिया करता है जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। इससे पेट में गैस, पेट में दर्द, उल्टी हो सकती है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।