डीजीपी ने चिंतपूर्णी में टेका माथा, बोले-नशे के कारोबारियों की प्रॉपर्टी होगी अटैच … #news4
October 25th, 2020 | Post by :- | 99 Views

धार्मिक स्थल चिंतपूर्णी में रविवार को हिमाचल प्रदेश के डीजीपी संजय कुंडू ने मां चिंतपूर्णी के दरबार में पावन पिंडी की पूजा अर्चना की। दर्शन करने के पश्चात पत्रकारों से बातचीत करते हुए संजय कुंडू ने बताया कि हिमाचल प्रदेश नशे का कारोबार करने वालों पर पुलिस सख्त कार्रवाई कर रही है। उन्होंने कहा कि अम्ब, इंदौरा, नालागढ़, नूरपुर में नशे के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के लिए पुलिस के अच्छे ऑफिसरों की तैनाती की गई है।

उन्होंने कहा कि कुल्लू में पिछले दिनों नशे का कारोबार करने वालों से 45 लाख व 26 लाख रुपए जब्त किए हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली फाइनैंस इन्वेस्टरी के साथ मिलकर हिमाचल प्रदेश पुलिस काम कर रही है ताकि नशे का कारोबार करने वालों की प्रॉपर्टी अटैच की जाए। उन्होंने कहा कि प्रदेश के प्रदेश थाना में अब नशे का कारोबार करने वालों के लिए रजिस्टर लगाए गए हैं। नशे के खिलाफ पूरे प्रदेश में अभियान जारी है। नशे का कारोबार करने वालों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा।

उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में सुसाइड करने वालों तथा दुष्कर्म करने वालों मामलों में कमी आई है।  2018 में हिमाचल प्रदेश में 780 तथा 2019 में 707 सुसाइड के मामले सामने आए थे लेकिन अब प्रदेश में सुसाइड करने वालों मामलों में कमी आई है। उन्होंने कहा कि शिमला में कमांड सैंटर बनाया गया है। जहां 19000 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश के धार्मिक स्थलों में भी निगरानी रखने के लिए और अधिक सीसीटीवी कैमरे लगाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में 68000 और सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि तीर्थ स्थानों में ड्रोन के माध्यम से श्रद्धालुओं पर नजर रखी जाएगी। इसी प्रकार प्रदेश के पर्यटक स्थलों में भी ड्रोन के माध्यम से पर्यटकों पर नजर रखी जाएगी। उन्होंने कहा कि स्कूलों में भी सीसीटीवी कैमरे लगाने के लिए प्रदेश सरकार से आग्रह किया है ताकि महिलाएं बच्चे सुरक्षित रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।