रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आनलाइन करेंगे मनाली-लेह मार्ग पर बने तीन महत्‍वपूर्ण पुलों का लोकार्पण #news4
October 11th, 2020 | Post by :- | 100 Views

एलएसी पर चीन से तनाव के बीच आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह देश की सरहदों से सटे सात अलग-अलग राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 43 पुलों का ई-उद्घाटन करेंगे। 43 में से सबसे ज्यादा 10 पुल जम्मू-कश्मीर में और तीन पुल हिमाचल प्रदेश में बनाए गए हैं। ये सभी स्थायी ब्रिज बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइजेशन ने बनाकर तैयार किए हैं। हिमाचल के इन तीन पुलों का रणनीतिक महत्व हैं। इन पुलों के निर्माण से सुरक्षा बलों और हथियारों के शीघ्रता से पहुंचाने में मदद मिलेगी। रक्षामंत्री  इन पुलों का ऑनलाइन उद्घाटन करेंगे।

इससे पहले 24 सितंबर को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का हिमाचल के तीन पुलों दारचा व पलचान पुल का वर्चुअल लोकार्पण करना था। लेकिन केंद्रीय रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी के निधन के चलते कार्यक्रम रद हो गया था। मनाली-लेह मार्ग के दारचा में भागा नदी पर, अटल टनल के नार्थ पोर्टल में चंद्रा नदी पर और मनाली के पलचान में ब्यास नदी पर भव्य पुल बनकर तैयार हुए हैं। इस सभी पुलों का निर्माण देश की नामी कंपनी गर्ग एंड गर्ग ने सीमा सड़क संगठन के मार्गदर्शन में किया है। गर्ग एंड गर्ग कंपनी के मैनेजर प्यारे लाल शर्मा ने बताया चंद्रा नदी पर पुल बनाने में उन्हें खासी दिक्कत का सामना करना पड़ा। सीमा सड़क संगठन दीपक परियोजना के चीफ इंजीनियर एमएस बाघी ने बताया इन पुलों के निर्माण से सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण मनाली लेह मार्ग का सफर और अधिक सुगम हो गया है। उन्होंने बताया सोमवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सभी पुलों का वर्चुअल उद्घाटन करेंगे।

पुलों की खासियत

मनाली लेह मार्ग सबसे लंबा दारचा में भागा नदी पर बनाया गया है, इसकी लंबाई 360 मीटर है। हजार फीट की ऊंचाई पर इस पुल का निर्माण किया गया है। लाहुल को कुल्‍लू घाटी से जोड़ने वाला चंद्रा नदी पर 100 मीटर लंबा पुल एक साल की अवधि में बनाया गया है। इसके अलावा मनाली के पलचान में 110 मीटर लंबा पुल दो साल की समय अवध‍ि में तैयार किया गया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।