कोरोना संक्रमण की मार, धर्मशाला में सरकारी कार्यालय बंद, डीसी आफ‍िस इस तरह निपटा रहा समस्‍याएं
November 28th, 2020 | Post by :- | 164 Views

कोरोना के बढ़ते मामलों के बाद जहां उपायुक्त कार्यालय में जनता से सीधा संपर्क बंद कर दिया गया है। वहीं पुलिस अधीक्षक कार्यालय, जल शक्ति विभाग का तकनीकी विंग और जिला पंचायत अधिकारी कार्यालय भी बंद हो गए हैं। शनिवार दोपहर बाद डीआइजी कार्यालय भी बंद कर दिया गया। उपायुक्त कार्यालय में जनता की समस्याओं के समाधान के लिए मुख्य गेट पर बाक्स लगाए गए हैं, ताकि इन बाक्स में लोग अपनी समस्या संबंधी पत्र मोबाइल नंबर सहित डाल सकें। पत्र प्राप्ति के बाद उपायुक्त कार्यालय संबंधित समस्या का निवारण कर रहा है और साथ ही संबंधित पत्र डालने वाले व्यक्ति से संपर्क भी।

हालांकि इससे पहले सीधा संवाद था, लेकिन एकाएक उपायुक्त कार्यालय में आए 15 और दूसरे दिन 3 मामलों के बाद उपायुक्त कार्यालय को जनता के लिए सीधे संपर्क से बचने के लिए बंद कर दिया गया है। इसीलिए अब उपरोक्त कदम उठाया गया है, ताकि लोगों की समस्याओं को सुलझाया जा सके और वह लंबित न रहें।

वहीं पुलिस अधीक्षक कार्यालय, जल शक्ति विभाग का तकनीकी विंग व जिला पंचायत अधिकारी कार्यालय भी बंद पड़े हैं। ये तीनों कार्यालय अब सोमवार को जनता के लिए खुलेंगे। वहीं वनमंडल धर्मशाला के कार्यालय में डीएफओ समेत तीन कर्मचारी संक्रमित आए हैं। हालांकि यह कार्यालय लोगों के लिए खुला है और इसे सैनिटाइज कर दिया गया है। लेकिन उपरोक्त कार्यालयों के बंद होने के बाद विकास कार्य ठप जरूर हो गए हैं। जिससे लोगों में भी कयास लगाए जा रहे हैं कि ऐसे में विकास कार्यों का प्रभावित होना स्वाभिक है।

जिला पंचायत अधिकारी कांगड़ा अश्वनी शर्मा ने बताया कार्यालय अब सोमवार को खुलेगा। वहीं जल शक्ति विभाग के अधिशाषी अभियंता सरवन ठाकुर के मुताबिक मंडल कार्यालय व तकनीकी विंग में कर्मचारी संक्रमित आने के बाद कार्यालय को बंद किया गया है और सोमवार को खोला जाएगा।

पुलिस अधीक्षक कांगड़ा विमुक्‍त रंजन के मुताबिक कार्यालय सोमवार को खुलेगा। उधर, उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति के मुताबिक कार्यालय में सीधा संवाद बंद कर दिया गया है और जनता के लिए बाक्स लगाए गए हैं, ताकि वह अपनी समस्या से संबंधित पत्र मोबाइल नंबर सहित उसमें डाल सकें और उनका कार्यालय स्टाफ समाधान करेगा, ताकि कोरोना से बचा जा सके।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।