DC कांगड़ा ने चैतडू, पासू व बगली में राहत कार्यों का किया निरीक्षण, अधिकारियों को दिए ये निर्देश #news4
July 22nd, 2021 | Post by :- | 217 Views

धर्मशाला  : डीसी डाॅ. निपुण जिंदल ने धर्मशाला उपमंडल के बारिश से प्रभावित चैतडू, लोअर चैतडू, मनेड़, बगली व पासू में राहत तथा पुनर्वास कार्यों का जायजा लिया तथा बारिश से हुए नुक्सान का प्राकलन शीघ्र तैयार करने के विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए ताकि प्रभावितों को राहत दी जा सके। इसके साथ ही चैतडू-शीला मार्ग की मुरम्मत के लिए भी आवश्यक कदम उठाने के लिए कहा गया है। इस दौरान डीसी ने प्रभावितों से बातचीत भी की तथा उनकी समस्याओं का शीघ्र निपटारा सुनिश्चित करने के लिए भी कहा है।

डीसी ने कहा कि बेघर हुए लोगों के पुनर्वास के लिए भी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं। प्रभावितों के लिए बगली में रिलीफ कैंप भी स्थापित किया गया है, जिसमें लोगों को ठहरने तथा भोजन इत्यादि की उचित व्यवस्था की गई है। इसके साथ ही कैंप में ठहरे लोगों के लिए चिकित्सा सुविधा भी उपलब्ध करवाई गई है। उन्हाेंने कहा कि आपदा से निपटने के लिए कांगड़ा जिला प्रशासन पूरी तरह से सतर्क है, जिसके चलते ही कांगड़ा जिला में आपदा से निपटने के लिए 15 करोड़ 31 लाख की राशि उपमंडलाधिकारियों को जारी कर दी गई है ताकि राहत तथा पुनर्वास के कार्यों में किसी तरह की कमी न रहे। इसके साथ ही उपमंडल स्तर पर आपदा से निपटने के लिए उपकरण भी पहले ही उपलब्ध करवाए जा चुके हैं। उन्हाेंने कहा कि शाहपुर के राजोल में खड्ड के बहाव को बदलने के लिए 10 लाख की राशि लोक निर्माण विभाग को जारी कर दी है ताकि कार्य में तेजी लाई जा सके।

डीसी ने कहा कि जिला स्तर पर पुनर्वास और राहत कार्यों की सुचारू मॉनिटरिंग की जा रही है। इसके लिए नियमित तौर से समीक्षा बैठकें भी आयोजित की जा रही हैं ताकि किसी भी स्तर पर कार्यों में कमी न रहे और लोगों को बेहतर सुविधाएं मिल सकें। उन्हाेंने कहा कि आपदाओं से निपटने के लिए जिला तथा उपमंडल स्तर पर कंट्रोल रूम स्थापित किए गए हैं। मानसून सीजन में ये कंट्रोल रूम 24 घंटे खुले रहेंगे ताकि आपदा से त्वरित प्रभाव से निपटा जा सके। आपदा की स्थिति में जिला मुख्यालय कंट्रोल रूम से टोल फ्री नंबर 1077 पर संपर्क कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि मानसून सीजन के दौरान आपदा प्रबंधन से जुड़े कार्यों के लिए सभी विभागों द्वारा नोडल अधिकारी भी नियुक्त किए गए हैं ताकि आपदा प्रबंधन का कार्य सुचारू रूप से सके।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।