BRO ट्रंप प्रशासन के अधीन नहीं, BJP को देना होगा शिलान्यास पट्टिका लगाने का आदेश : राजेंद्र राणा … #news4
October 18th, 2020 | Post by :- | 108 Views

राज्य कांग्रेस उपाध्यक्ष एवं विधायक राजेंद्र राणा ने कहा है कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर रोहतांग टनल शिलान्यास पट्टिका पर अब हल्की बात करते हुए हल्की राजनीति न करें। रोहतांग टनल हिमाचल में है और बतौर मुख्यमंत्री उन्हें सब ज्ञात है कि प्रदेश में कहां क्या हो रहा है। रोहतांग टनल की शिलान्यास पट्टिका ओछी राजनीति व साजिश के तहत हटाई गई है। उन्होंने कहा कि जहां तक रोहतांग टनल की शिलान्यास पट्टिका को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि सोनिया गांधी द्वारा किए गए शिलान्यास की पट्टिका बीआरओ के पास सुरक्षित है और अब बॉर्डर रोड ऑर्गेनाइजेशन ही तय करेगा कि शिलान्यास पट्टिका कहां लगानी है। इस बारे में सरकार का कोई हस्तक्षेप नहीं है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के इस संवाद से यह बात तो साबित हो गई है कि रोहतांग टनल का शिलान्यास कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी द्वारा ही किया गया था व इसकी नींव भी कांग्रेस कार्यकाल में ही पड़ी थी। भले ही बीजेपी इस बात को मानने को राजी नहीं है। उन्होंने कहा कि बीआरओ वाली बात न न्यायसंगत न तर्कसंगत है। सरकार का बयान साबित करता है कि रोहतांग टनल का निर्माण कार्य कांग्रेस की ही सोच थी। उन्होंने कहा कि बीआरओ एक सरकारी निर्माण एजैंसी है जोकि भारत सरकार के ही अधीन आती है। बीआरओ कोई ट्रंप प्रशासन के अधीन नहीं है जोकि अब शिलान्यास पट्टिका लगाने की अनुमति उसे इंटरनेशनल लेवल पर ट्रंप प्रशासन से लेनी है।

उन्होंने कहा कि राज्य और केंद्र में दोनों जगह बीजेपी की सरकार है और बीआरओ भी भारत सरकार के अधीन ही आता है। इसलिए मुख्यमंत्री बचकानी बात करके ओछी राजनीति न करें। पूरा देश व प्रदेश जानता है कि रोहतांग टनल का शिलान्यास राष्ट्रीय कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी के हाथों हुआ है। इस टनल को बनाने की सोच किसकी रही है और कैसे यह सपना साकार हुआ है, इसका सर्टिफिकेट देश और प्रदेश की जनता को मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से नहीं लेना है, जनता सब जानती है।

उन्होंने कहा कि बीजेपी इस मामले पर ओछी राजनीति न करे और न ही इस मामले पर राजनीति करते हुए विकास के इतिहास से छेड़छाड़ करने का गुनाह न करे। उन्होंने कहा कि रोहतांग टनल के निर्माण में श्रेय लेने जैसी कोई बात नहीं है। प्रदेश की जनता के साथ-साथ मुख्यमंत्री स्वयं इस बात को जानते हैं कि रोहतांग टनल की नींव जनजातीय क्षेत्र की पहली महिला विधायक लता ठाकुर की मांग पर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की सोच का प्रमाण व परिणाम है। रोहतांग टनल का प्रोजैक्ट यूपीए वन और टू में बजट के साथ स्वीकृत हुआ है। इसका 45 फीसदी काम कांग्रेस कार्यकाल में पूरा हो चुका था। उसके बाद का काम सरकार बदलने के बाद एनडीए कार्यकाल में लंबी देरी के बाद हुआ है।

उन्होंने कहा कि सरकारें आती हैं-जाती हैं लेकिन विकास की इबारत व सोच जिन कांग्रेसी नेताओं के कारण रोहतांग टनल के निर्माण के तौर पर परिलक्षित हुई है, उस इतिहास से छेड़छाड़ करने की कसूरवार बीजपी न बने। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री केंद्र से बात करके सोनिया गांधी के नाम वाली शिलान्यास पट्टिका को तुरंत रोहतांग टनल पर स्थापित करें, ताकि कम से कम मुख्यमंत्री का नाम पट्टिका हटाने वालों में शुमार न हो। जहां तक बीआरओ का सवाल है तो बीआरओ भारत देश के लोकतंत्र के  अधीन निर्माण कार्य करने वाली एजेंसी है। इसलिए बीआरओ को पट्टिका स्थापित करने का आदेश कोई ट्रंप प्रशासन नहीं देगा। यह इसी देश और प्रदेश की सरकार को देना होगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।