Breaking : हिमाचल में नशे की सबसे बड़ी खेप बरामद, 127 KG चरस व 295 KG गांजे के साथ 5 गिरफ्तार #news4
January 14th, 2021 | Post by :- | 114 Views

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिला में अब तक की सबसे बड़ी चरस व गांजे की खेप बरामद की गई है। कुल्लू पुलिस ने 24 घंटे में 127 किलोग्राम चरस व 295 किलोग्राम गांजा बरामद करने में सफलता हासिल की है। इस दौरान 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। जानकारी के अनुसार कुल्लू पुलिस ने बंजार के श्रीकोट पंचायत के सजाहु गांव में 122 किलोग्राम चरस व 295 किलोग्राम गांजा के साथ 4 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस की टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर देर रात सजाहु गांव के जंगल में दबिश दी, जहां पर चरस के सप्लायर व डिलीवरी लेने वाले 2 लोगों को दबोचा गया, जिनके कब्जे से 111 किलोग्राम चरस की खेप बरामद हुई। वहीं पुलिस की टीम ने कार्रवाई करते हुए उसी गांव के 2 लोगों के ठिकानों में रेड की तो एक आरोपी के कब्जे से भी 11 किलो 588 ग्राम चरस बरामद की गई। आरोपी के कब्जे से 2 गैर लाइसैंसी बंदूकें भी बरामद की गई हैं। दूसरे आरोपी के कब्जे से भी 295 किलोग्राम गांजा बरामद किया गया है। इसके अलावा आनी में भी 4 किलो 505 ग्राम चरस के साथ एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है।

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में 4 करोड़ रुपए कीमत

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में उक्त नशीले पदार्थो की करीब 4 करोड़ रुपए कीमत बताई जा रही है। एसपी कुल्लू गौरव सिंह ने पुष्टि करते हुए बताया कि सयुंक्त टीम में 27 लोग शामिल थे, जिन्होंने उक्त कार्रवाई को अंजाम दिया है। आरोपियों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट की धारा-20 के तहत कार्रवाई अमल में लाई जा रही है। इसके साथ पुलिस ने उक्त गांव को सील भी कर दिया है।

पिछले वर्ष बंजार पुलिस ने पकड़ी थी 42 किलोग्राम चरस

वहीं इससे पहले भी पिछले वर्ष बंजार पुलिस ने 42 किलो चरस के साथ 4 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया है। इस मामले में पुलिस द्वारा पूरे गिरोह का भंडाफोड़ कर कार्रवाई अमल में लाई जा रही है। कुल्लू पुलिस लगातार नशा माफियाओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई कर उन की फाइनेंसियल इन्वैस्टीगेशन कर अब तक तीन करोड रुपए की अवैध संपत्ति को भी जब्त किया गया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।