अब बिलासपुर में भी खिला ब्रह्मकमल, हिमालय के फूलों का राजा है यह देवपुष्प #news4
September 10th, 2021 | Post by :- | 221 Views

बिलासपुर : हिमालय के फूलों का सम्राट कहलाने वाला दुर्लभतम देवपुष्प ब्रह्मकमल अब देवभूमि हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर में भी खिला है। बिलासपुर शहर निवासी प्रविंद्र शर्मा के घर में इस देवपुष्प ने अपने दर्शन दिए हैं। इससे पहले यह दिव्य पुष्प सोलन जिला के तुलसी कुटीर आश्रम में 22 मई को खिला था। माना जाता है कि ब्रह्मकमल देवी देवताओं का पुष्प है, जो अपने में असीमित अलौकिक शक्तियां समेटे हुए रहता हैं। यह पुष्प वर्ष में एक ही बार आधी रात को खिलता है और सुबह होने से पहले ही बंद हो जाता है। जब यह पुष्प खिलता है तो पूरे वातावरण में इसकी अलौकिक सुगंध भी फैल जाती है। इस फूल के दर्शन होना ही अपने आप में सौभाग्य का प्रतीक है और इसके दर्शनों के समय की गई मनोकामना पूरी होती है।

देव पुष्प ब्रह्मकमल हिमालय क्षेत्र की 12 हजार फुट से ऊंची पहाड़ियों पर ही पाया जाता है और इसलिए उत्तराखंड सरकार ने इसे अपना राज्यपुष्प भी घोषित कर रखा है। इस फूल में अत्यधिक औषधीय तत्व पाए जाते हैं। वहीं,बिलासपुर नगर निवासी प्रविंद्र शर्मा ने बताया कि उनके घर में भी यह पौधा उत्तराखंड केदारनाथ धाम से पांच वर्ष पहले किसी रिश्तेदार के माध्यम से पहुंचा था और पांच वर्ष तक लगातार इसकी पूजा अर्चना करने के बाद बुधवार रात को इस देवपूष्प ब्रह्मकमल ने उन्हें दर्शन दिए। शर्मा ने बताया कि उनके साथ जिसके भी भाग्य में दर्शन लिखे हुए थे उन्हंे भी सौभाग्य से साक्षात दर्शन हुए हैं। यह सब गुरुकृपा से ही संभव हुआ है अन्यथा बिलासपुर जैसे गर्म वातावरण में इस फूल का लगना असंभव और स्वप्न ही है। शर्मा ने कहा कि वह अपने सदगुरुदेव परमहंस स्वामी निखिलेश्वरानंद जी से प्रार्थना करते हैं कि देवभूमि हिमाचल प्रदेश के हर घर में यह दैव पुष्प खिले और लोगों की मनोकामनाएं पूरी हो।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।