Turmeric Can Treat Coronaviruses:हल्दी में मौजूद Curcumin मार सकता है कोरोनावायरस को, जानिए कैसे …
September 16th, 2020 | Post by :- | 81 Views

हल्दी भारतीय खानों का अहम हिस्सा है। हल्दी के औषधीय गुणों के बारे में हमें पहले से ही पता है। अब शोधकर्ताओं ने एक अध्ययन में पाया है कि आमतौर पर इस्तेमाल में आने वाले मसाले हल्दी में पाया जाने वाला एक प्राकृतिक तत्व वायरस को खत्म करने में मदद कर सकता है। जर्नल ऑफ जनरल वायरोलॉजी में प्रकाशित अध्ययन में कहा गया है कि हल्दी में मौजूद इस तत्व को Curcumin के नाम से जाना जाता है। ये तत्व ट्रांसमीसबल गैस्ट्रोएंटेराइटिस वायरस (TGEV) नामक वायरस से बचाता है। इस बीमारी से दस्त, गंभीर डिहाइड्रेशन और मौत भी हो सकती है। Curcumin को अधिक मात्रा में लेने से यह वायरस के कारणों को भी खत्म कर सकता है।

TGEV के इन्फेक्शन से सूअर के बच्चों में ट्रांसमिसिबल गैस्ट्रोएन्टेरिटिस नाम की बीमारी होती है। TGEV बहुत तेजी से फैलने वाली बीमारी है और यह दो हफ्ते से कम के सूअर के बच्चों में पाई जाती है। इससे वैश्विक स्वाइन उद्योग को बड़ा खतरा हो सकता है।

फिलहाल अल्फा-वायरस के लिए हमारे पास प्रभावी इलाज मौजूद नहीं है। TGEV की वैक्सीन तो हमारे पास उपलब्ध है, लेकिन यह वैक्सीन इस वायरस को फैलने से रोकने में कारगर नहीं है। करक्यूमिन कई तरह से TGEV पर प्रभाव डालता है। यह वायरस के सेल को इन्फेक्ट करने से पहले ही मार देता है। ऐसा माना जा रहा है कि Curcumin के जरिए TGEV इन्फेक्शन से बचा जा सकता है।

ऐसा पाया गया है कि Curcumin, डेंगू वायरस, हेपेटाइटिस बी और जीका वायरस सहित कुछ प्रकार के वायरस को रोक सकता है। शोधकर्ताओं के मुताबिक Curcumin के एंटीट्यूमर, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-बैक्टीरियल प्रभाव भी हैं। हल्दी के इस तत्व पर रिसर्चर्स की खोज जारी है। आगे की स्टडी में यह देखा जाएगा कि Curcumin किस प्रकार से TGEV यानी एक तरह के कोरोना वायरस से लड़ता है? इसमें Curcumin के प्रभाव और एंटी-वायरल कैसे काम करता है, के बारे में पता चलेगा

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।