पात्र लाभार्थियों को समय पर मिले ऋण : जतिन लाल ..
September 15th, 2020 | Post by :- | 60 Views

मंडी, 15 सितंबर : अतिरिक्त उपायुक्त जतिन लाल ने जिलास्तरीय ‘बैंकर्ज’ स्थाई समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए बैंक अधिकारियों को सरकार की स्वरोजगार एवं जनकल्याणकारी योजनाओं के तहत दी जा रही ऋण सुविधाओं का समयबद्ध निपटान करने को कहा। उन्होंने कहा कि अधिकारी यह सुनिश्चित बनाएं कि पात्र लाभार्थियों को समय पर ऋण का भुगतान हो। उन्होंने अधिकारियों से कैश-डिपोजिट रेशो बढ़ाने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने का आग्रह भी किया।
अतिरिक्त उपायुक्त ने बैंकों से स्वरोजगार गतिविधियों के लिए उदारतापूर्वक लोन देने को कहा । साथ ही उन्होंने बैंक अधिकारियों से लोगों के पास जाकर उन्हें लोन लेकर अपना काम धंधा शुरू करने को प्रोत्साहित करने का आग्रह किया। उन्होंने खासकर प्राथमिकता क्षेत्र पर विशेष ध्यान देने को कहा।
उन्होंने कहा कि केंद्र व प्रदेश सरकार ने अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए अनके प्रभावी कदम उठाए हैं। इनमें से अधिकतर बैंकों के ऋण वितरण से जुड़े हैं। बैंकों से लोन लेने की प्रकिया को आसान बनाया गया है। उन्होंने कहा कि आसानी से लोन मिलने पर बड़ी संख्या में लोग अपना काम धंधा लगाने के लिए प्रेरित होंगे।
जतिन लाल ने कहा कि बैंको के लिए निर्धारित लक्ष्यों की पूर्ति में कोई कोताही न बरती जाए। उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिए कि ऋण सम्बन्धि विभिन्न योजनाओं के प्रचार-प्रसार को जन-जन तक पहुंचाएं ताकि अधिक से अधिक युवा इन योजनाओं का लाभ उठाकर आत्मनिर्भर बन सकें।
ऑन लाईन लेन-देन में बरतें सतर्कता : शालिनी अग्निहोत्री
पुलिस अधीक्षक शालिनी अग्निहोत्री ने ऑन लाईन बैंकिंग, डिजिटल और ‘ई-फ्रॉड’ बारे विस्तार से जानकारी दी और इनसे बचने के उपाय बताए। उन्होंने लोगों से ऑन लाईन लेन-देन में सतर्कता बरतने का आग्रह किया।
उन्होंने बैंक अधिकारियों से आग्रह किया कि ऑन लाईन बैंकिंग के माध्यम से उपभोक्ताओं के साथ हो रही धोखाधड़ी से बचाव बारे अधिक से अधिक जागरूकता अभियान चलाएं। उन्होंने लोगों से भी आग्रह किया कि वे एटीएम के आसपास किसी संदिग्ध व्यक्ति को नोटिस करें तो उसकी सूचना नजदीकी पुलिस स्टेशन या टोल फ्री नम्बर 112 पर दें।
पीएनबी के सर्किल हेड विजय कुमार ने कहा कि सभी श्रणियों में जिला में शानदार काम हुआ है और जिला के लक्ष्य राष्ट्रीय स्तर से अधिक हैं। उन्होंने वित्तीय वर्ष के अंत तक इस साल के शत प्रतिशत लक्ष्य हासिल करने एवं सभी बैंकों से गुणवत्ता के आधार पर अधिक से अधिक ऋण प्रदान करने का आह्वान किया।
नाबार्ड की जिला प्रबंधक सोहन प्रेमी ने बताया कि जिला में ग्रामीण मार्ग और सिंचाई व पेयजल से जुडे़ कामों के लिए नाबार्ड के सहयोग से लगभग 312 करोड़ रुपए की परियोजनाएं कार्यान्वित की जा रही हैं। इनमें 48 ग्रामीण मार्ग परियोजनाएं, 23 लघु सिंचाई योजनाएं और 29 पेयजल योजनाएं शामिल हैं।
उन्होंने कहा कि जिला में बल्ह के रजवाड़ी और सैथल में वाटरशैड से जुड़े क्षमता निर्माण काम चल रहे हैं। जिनपर 2.36 करोड़ की राशि व्यय की जा रही है। उन्होंने बताया कि कृषि विज्ञान केंद्र सुंदरनगर को एक 25 लाख रुपए की परियोजना दी गई है, जिसके तहत 300 किसानों को मशरूम और संरक्षित खेती के लिए प्रशिक्षित करने का लक्ष्य रखा गया है।
आरबीआई (रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया) के एलडीओ अवनेश्वर सिंह ने कहा कि कोरोना संकट में आरबीआई लोन व्यवस्था को सरल व सुलभ बनाने पर जोर दे रहा है।
मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना में 55 मामले स्वीकृत
बैठक में जिला उद्योग प्रबंधक ओपी जरयाल ने बताया कि जिला में मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना में इस वर्ष अभी तक 55 मामले स्वीकृत किए गए हैं। जिन्हें 8.58 करोड़ रुपए के ऋण स्वीकृत किए जा चुके हैं। इनमें से अब तक 11 लाभार्थियों को 52 लाख रूपए की अनुदान राशि भी वितरित कर दी गई है। उन्होंने बताया कि इस योजना में नई गतिविधियों को भी शामिल किया गया है जिसमें ई-रिक्शा, सोलर संचालित थ्री व्हीलर, छोटे माल वाहक वाहन, मोबाईल फूड वैन आदि रोजगार शुरू करने के लिए 10 लाख रूपऐ के ऋण का प्रावधान है।
जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक एस.के.सिन्हा ने बैठक की कार्यवाही का संचालन किया। उन्होंने अगवत करवाया कि जिला ने प्राथमिक सेक्टर सहित लगभग सभी क्षेत्रों में ऋण वितरण में राष्ट्रीय मानकों से बेहतर प्रदर्शन किया है।
अतिरिक्त उपायुक्त ने इस दौरान जिलास्तरीय ‘आरसेटी’ सलाहकार समिति की बैठक की अध्यक्षता भी की और ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान की गतिविधियों की समीक्षा भी की।
इस अवसर पर परियोजना अधिकारी डीआरडीए नवीन कुमार, विषयवाद विशेषज्ञ बागवानी जय गोपाल ठाकुर, समस्त बैंको के डीसीओ, एनजीओ प्रतिनिधियों सहित समस्त विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।