सेना के ट्रेनिंग सेंटर में जाने से पहले युवाओं को लानी होगी कोरोना रिपोर्ट – News 4
September 15th, 2020 | Post by :- | 87 Views

हिमाचल के कांगड़ा जिले के पालमपुर कृषि विवि में 19 जनवरी को हुई सेना भर्ती की लिखित परीक्षा में पास हुए युवाओं को अब कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट के बिना ट्रेनिंग सेंटर में नहीं भेजा जाएगा। इन युवाओं को तीन दिन पहले की सरकारी अस्पतालों से अपनी कोरोना टेस्ट रिपोर्ट लानी होगी, तभी इनको ट्रेनिंग सेंटर में भेजा जाएगा। 19 जनवरी की सेना भर्ती की लिखित परीक्षा में पास हुए अभी कई युवाओं को ट्रेनिंग सेंटर में भेजा जाना है। इसके लिए सेना ने तारीख तय कर दी है। लेकिन कोरोना के बढ़ते मामलों को देख अब इन युवाओं को ट्रेनिंग सेंटर में जाने से पहले तीन दिन पहले की कोरोना रिपोर्ट लानी होगी। सेना भर्ती कार्यालय पालमपुर के निदेशक कर्नल संदीप सरोही ने कहा कि इन बिना कोरोना टेस्ट रिपोर्ट के आए युवाओं को ट्रेनिंग सेंटर में नहीं भेजा जाएगा। साथ ही इन युवाओं को अपने मूल प्रमाण पत्र व 20 पासपोर्ट साइज फोटो के साथ फेस मास्क, दस्ताने, हैंड सैनिटाइजर और खाने-पीने का सामान साथ लाना होगा।

29 सितंबर को डोगरा रेजीमेंट सेंटर फरीदाबाद में सोल्जर जनरल ड्यूटी रोल नंबर 1382 से लेकर 1905 तक, तीन अक्तूबर को इसी ट्रेड इसी सेंटर में रोल नंबर 1906 से लेकर 2374 तक, पांच अक्तूबर को इसी ट्रेड और इसी सेंटर में रोल नंबर 2376 से लेकर 2779 तक, छह अक्तूबर को इसी ट्रेड और इसी सेंटर में रोल नंबर 2781 से लेकर 3173 तक, इसी दिन ब्रिगेड ऑफ द गार्ड्स  रेजीमेंट सेंटर कामठी सोल्जर जनरल ड्यूटी रोल नंबर 1020 से लेकर 2512 तक, बांबे इंजीनियर ग्रुप किरकी सोल्जर जनरल ड्यूटी रोल नंबर 1143 से लेकर 3166 तक व सोल्जर क्लर्क/एसकेटी रोल नंबर 47016 से लेकर 47150 तक, 20 अक्तूबर को ग्रेनेडियर्स सामान्य जनरल ड्यूटी रोल नंबर 1005 से लेकर 1716 तक, 21 अक्तूबर को रेजीमेंट सेेंटर जबलपुर इसी ट्रेड के रोल नंबर इसी 1725 से लेकर 2368 तक व 22 अक्तूबर को इसी सेंटर और इसी ट्रेड के रोल नंबर 2371 से लेकर 3160 तक के युवा भेजे जाएंगे। उन्होंने कहा कि यह युवा सुबह सात बजे भर्ती कार्यालय पालमपुर में रिपोर्ट करें। इस भर्ती में कांगड़ा व चंबा के युवा भर्ती हुई है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।