गत 3 वर्षों में जल संरक्षण और संवर्धन को लेकर किए गए कार्यों का उपायुक्त ने मांगा ब्यौरा …
June 27th, 2020 | Post by :- | 105 Views

चंबा, 27 जून- विभिन्न विभाग गत 3 वर्षों के दौरान जल संरक्षण और संवर्धन की दिशा में किए गए कार्यों पर आधारित डाटा रिपोर्ट तैयार करके प्रस्तुत करेंगे ताकि जिले की संकलित रिपोर्ट को राष्ट्रीय हरित ट्रिब्यूनल के लिए भेजा जा सके। उपायुक्त विवेक भाटिया ने ग्रामीण विकास, जल शक्ति, वन, कृषि और बागवानी विभाग के अलावा जल संरक्षण की गतिविधियों से जुड़े अन्य विभागीय अधिकारियों को यह निर्देश आज इस संबंध में उपायुक्त कार्यालय सभागार में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए दिए। उन्होंने कहा कि इस रिपोर्ट में वन सरोवरों के निर्माण, माइक्रो सिंचाई स्कीमों, चेक डैम, वर्षा जल संग्रहण, वनीकरण और पर्यावरण के संरक्षण के लिए उठाए गए कदमों का विवरण भी दिया जाएगा।

उपायुक्त ने अवैध डंपिंग करने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी नियमित तौर पर निरीक्षण करके मासिक रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे। उन्होंने कहा कि सड़कों पर उपयुक्त डंपिंग साइटें चिन्हित की जाएंगी जिसका सरकार द्वारा गठित कमेटी पहले निरीक्षण करेगी। इसका सबसे बड़ा लाभ यह भी होगा कि जिले में अवैध डंपिंग और पर्यावरण को होने वाले नुकसान की समस्या से भी काफी हद तक निजात मिल सकेगी।
उन्होंने कहा कि पारिस्थितिकीय व्यवस्था के साथ अनावश्यक रूप से छेड़छाड़ करने वालों पर अंकुश लगाए जाने की जरूरत है। उपायुक्त ने विभागीय अधिकारियों को कहा कि विभाग अपने स्तर पर इस दिशा में भविष्य की कार्ययोजना भी तैयार करें और उसकी रिपोर्ट भी जिला प्रशासन को सौंपें।
उपायुक्त ने विशेष तौर से कृषि और बागवानी विभागों के अधिकारियों को ये भी कहा कि वे विभागीय स्कीमों के आउटकम को जमीनी स्तर पर उतारें ताकि सही मायनों में विभागों के साथ जुड़ने वालों को आर्थिक स्वावलंबन मिल सके। उन्होंने कहा कि किसानों और बागवानों को उनकी मांग और अपेक्षा के अनुरूप बीज और पौधे विभागों द्वारा मुहैया किए जाने चाहिए ताकि वे अच्छी और जल्द मिलते वाली पैदावार से बेहतर मुनाफा ले सकें। विभाग ऑनलाइन सेमिनार आयोजित करके किसानों और बागवानों का मार्गदर्शन करने के अलावा उन्हें जागरूक भी करें। बैठक में परियोजना अधिकारी एवं उप निदेशक जिला ग्रामीण विकास अभिकरण सौरभ जस्सल के अलावा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के वरिष्ठ पर्यावरणीय अभियंता रमेश कुमार नड्डा, जिला योजना अधिकारी गौतम शर्मा, अधिशासी अभियंता जल शक्ति दिनेश कपूर, कृषि उपनिदेशक सुरेश शर्मा, बागवानी उपनिदेशक सुशील अवस्थी, विधि अधिकारी सोहम कौशल, सहायक वन अरण्यपाल रजनीश व अन्य विभागीय अधिकारी भी मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।