खालिस्तान समर्थकों ने दी धमकी, सीएम जयराम को 15 अगस्त को नहीं फहराने देंगे तिरंगा #news4
July 30th, 2021 | Post by :- | 1911 Views

पंजाब में अस्थिरता लाने की असफल कोशिश के बाद खालिस्तान समर्थकों ने अब हिमाचल प्रदेश को भी अपने निशाने पर लेने की कोशिश की है। प्रदेश के कई पत्रकारों व प्रबुद्धजनों को अमेरिका और कनाडा के नंबरों से फोन कॉल कर धमकी दी जा रही है कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को 15 अगस्त को झंडा नहीं फहराने देंगे।

फोन कॉल की जानकारी मिलने के बाद हिमाचल प्रदेश पुलिस और केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गई हैं। डीजीपी संजय कुंडू ने केंद्रीय एजेंसियों के हिमाचल के अधिकारियों के साथ एक बैठक कर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की सुरक्षा को एक स्तर और बढ़ा दिया है। इसके साथ ही साइबर क्राइम पुलिस को मामले की जांच दे दी है।

कुंडू ने बताया कि सभी जिलों के एसपी को संवेदनशील क्षेत्रों व प्रोजेक्टों की सुरक्षा बढ़ाने के लिए कहा दिया गया है। साथ ही प्रदेश में आने वाले हर वाहन की चेकिंग भी की जाएगी। सीमांत इलाकों में पुलिस टीमें गश्त भी करेंगी। सीमांत जिलों के एसपी पड़ोसी राज्यों के सीमांत जिलों के पुलिस अधिकारियों से इस संबंध में सामंजस्य बैठाएंगे।

वहीं, पंद्रह अगस्त तक प्रदेश में सुरक्षा सतर्क रहेगी। उधर, प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने साफ कर दिया है कि हर हाल में निर्धारित जगह पर ही झंडा फहराया जाएगा। बता दें, बीतें दिनों पंजाब से सटे हिमाचल के नयनादेवी इलाके के मील पत्थरों पर शरारती तत्वों ने लिख दिया था कि इस जगह से खालिस्तान की हद शुरू होती है। इस मामले में भी हिमाचल पुलिस जांच कर रही है।

जहां स्वतंत्रता दिवस का कार्यक्रम होगा वही करूंगा ध्वजारोहण: सीएम
प्रतिबंधित आतंकी सिख संगठन के धमकी भरे संदेश के वायरल होने के मामले में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि 15 अगस्त के दिन जहां भी उनका कार्यक्रम होगा, वहां तिरंगा झंडा जरूर फहराया जाएगा। उन्होंने कहा कि मामले को लेकर जांच एजेंसी के माध्यम से भी जांच करवाई जाएगी।

मुख्यमंत्री ने चंडीगढ़-मनाली नेशनल हाईवे पर वाहनों पर खालिस्तानी संगठनों के झंडे लगाकर चल रहे बाहरी राज्यों के वाहनों पर भी चिंता व्यक्त की। मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसे मामलों को गंभीरता से लेते हुए गहनता से जांच करने के आदेश भी दिए गए हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।